आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें PDF के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़े।

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी अगस्त 2021

 Environment and Ecology


पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी अगस्त 2021

Environment and Ecology.

दिल्ली विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने केरल में पश्चिमी घाट पर मेंढक की नई प्रजाति की खोज की है।
इसका नाम मिनरवर्या पेंटली रखा गया है।

बादल फटना
बादल फटना एक छोटे से क्षेत्र में छोटी अवधि की तीव्र वर्षा की घटना है।
• भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, यह लगभग 20-30 वर्ग किमी. के भौगोलिक क्षेत्र में 100 मिमी / घंटा से अधिक अप्रत्याशित वर्षा के साथ एक मौसमी घटना है।
निम्न तापमान और धीमी हवाओं के साथ सापेक्ष आर्द्रता और मेघ आवरण (cloud cover) अधिकतम स्तर पर होता है, इस स्थिति के कारण बादल बहुत अधिक मात्रा में तीव्र गति से संघनित हो सकते हैं और परिणामस्वरूप बादल फट सकते हैं।

अगस्त 2021 में थाईलैंड ने ऐसे रसायनों वाले सनस्क्रीन पर प्रतिबंध लगा दिया है, जो उसके सभी समुद्री राष्ट्रीय उद्यानों से प्रवाल (coral) को नुकसान पहुंचा रहे हैं।
पर्यटकों द्वारा धूप से सुरक्षा के लिए उपयोग किए जाने वाले लोशन (lotions) धीमी गति से वृद्धि करने वाले प्रवाल को नुकसान पहुंचा रहे हैं।
• प्रतिबंधित लोशन वे हैं, जिनमें ऑक्सीबेंजॉन, ऑक्टिनॉक्सेट, 4-मिथाइलबेन्जिलिडीन कपूर  या ब्यूटाइलपरबेन होते हैं।

कार्बन डाइ-ऑक्साइड के सबसे बड़े उत्सर्जक चीन ने 2060 तक कार्बन-न्यूट्रल या कार्बन तटस्थ बनने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
कार्बन न्यूट्रल:- कार्बन न्यूट्रल का अर्थ है जितना हो सके कार्बन डाइ-ऑक्साइड उत्सर्जन में कटौती करना और जिसे समाप्त नहीं किया जा सकता है उसे ऑफसेट (offset) करना।

इंदौर को भारत का पहला 'वाटर प्लस' प्रमाणित शहर घोषित किया गया है।

असम में काजीरंगा नेशनल पार्क सैटेलाइट फोन से लैस होने वाला भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान बन गया है।

अगस्त 2021 में भारत के चार स्थल रामसर सूची में शामिल हुए है। इसी के साथ ही भारत में रामसर साइटों की कुल संख्या 46 पहुंच गई है।
1. थोल झील वन्यजीव अभयारण्य (गुजरात)
2. वाधवाना आर्द्र प्रदेश (गुजरात)
3. सुल्तानपुर राष्ट्रीय उद्यान (गुरुग्राम, हरियाणा)
4.भिंडवास वन्यजीव अभयारण्य (हरियाणा)

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री, नरेंद्र सिंह तोमर ने राष्ट्रीय पादप आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो (NBPGR), पूसा (Pusa), नई दिल्ली में दुनिया के दूसरे सबसे बड़े राष्ट्रीय जीन बैंक का उद्घाटन किया है।
यह जीन बैंक शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस तापमान में वर्षों तक बीजों को सुरक्षित रखने के लिए जर्मप्लाज्म (germplasm) की सुविधा प्रदान करता है।

2020 में गाजियाबाद दुनिया का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर बना है। चीनी शहर होतान सबसे प्रदूषित शहर रहा।

सौर-आधारित इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशनों के नेटवर्क के साथ, दिल्ली-चंडीगढ़ राजमार्ग देश का पहला इलेक्ट्रिक वाहन-फ्रेंडली हाईवे (EV-friendly highway) बन गया है।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने 23 अगस्त को देश के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया।

स्वीडन में दुनिया का पहला जीवाश्म मुक्त स्टील बनाया गया है। (कोयला रहित स्टील)

मिस्र के वैज्ञानिकों ने करीब 4.3 करोड़ वर्ष पहले पाई जाने वाली चौपाये वहेल की एक नई प्रजाति के जीवाश्म की खोज की है। इस नई प्रजाति का नाम फियोमेसिटस अनुबिस रखा गया है। (मिस्र के मृत्यु के देवता के नाम पर)
‘एसिटाबुलरिया जलकन्याका’ शैवाल
अगस्त 2021 में पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय के जीव विज्ञानियों की एक टीम ने अंडमान द्वीप समूह में एक छतरी जैसी टोपी वाली नई समुद्री शैवाल प्रजाति की खोज की है।
• इस समुद्री शैवाल प्रजाति का नाम संस्कृत शब्द ‘जलकन्याका’ पर ‘एसिटाबुलरिया जलकन्याका’रखा गया है।

हाल ही में वनस्पति वैज्ञानिकों के एक समूह ने किस द्वीप समूह में एक 'अम्ब्रेला हेड' वाली शैवाल प्रजाति की खोज की है? - अंडमान और निकोबार

आईपीसीसी छठी आकलन रिपोर्ट
9 अगस्त, 2021 को जलवायु परिवर्तन पर अंतर सरकारी पैनल (IPCC) की छठी आकलन रिपोर्ट जारी की गई।
• रिपोर्ट के अनुसार मौजूदा वैश्विक तापन रुझानों से भारत में वार्षिक औसत वर्षा में वृद्धि होने की संभावना है, आने वाले दशकों में दक्षिणी भारत में और अधिक गंभीर वर्षा होने की सम्भावना है।
अगले दो दशकों में पूर्व-औद्योगिक समय की तुलना में ग्रह अपरिवर्तनीय रूप से 1.5 डिग्री सेल्सियस गर्म होने की ओर अग्रसर है।
जब तक सभी देशों द्वारा तत्काल अत्यधिक उत्सर्जन कटौती नहीं की जाती, 2015 पेरिस समझौते के लक्ष्यों को प्राप्ति की संभावना नहीं है।
रिपोर्ट में आईपीसीसी द्वारा सिफारिश की गई है कि अलग-अलग देश 2050 तक शुद्ध शून्य उत्सर्जन प्राप्त करने का प्रयास करें।
रिपोर्ट के अनुसार अपने उत्सर्जन पर अंकुश लगाने के लिए देशों द्वारा मौजूदा प्रतिबद्धताओं के आधार पर, दुनिया वर्ष 2100 तक वैश्विक तापमान में कम से कम 2.7 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि की ओर अग्रसर है, इसे 'मानवता के लिए कोड रेड' (Code red for humanity) की संज्ञा दी गई है।
भारत पर प्रभाव: रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि 7,516.6 किमी. समुद्री तट रेखा के साथ, भारत को समुद्रों के बढ़ते स्तर से अत्यधिक खतरों का सामना करना पड़ेगा।
यदि समुद्र का स्तर 50 सेमी बढ़ जाता है तो छ: भारतीय बंदरगाह शहरों - चेन्नई, कोच्चि, कोलकाता, मुंबई, सूरत और विशाखापत्तनम में 28.6 मिलियन लोग तटीय बाढ़ के संकट का सामना करंगे।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments