आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें PDF के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़े।

साइंस एंड टेक्नोलॉजी दिसंबर 2020

  Science and technology


साइंस एंड टेक्नोलॉजी दिसंबर 2020

Science and technology December 2020

विश्व एड्स दिवस 1 दिसंबर
एचआईवी संक्रमण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए प्रतिवर्ष 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है। इसके आयोजन की शुरुआत विश्व स्वास्थ्य संगठन से जुड़े गेम्स डब्ल्यू बुन और थॉमस नेटर ने 1987 में की थी।
2020 की थीम:- “Global solidarity, shared responsibility”.
• 1981 में अमेरिका के लॉस एंजेलिस में 5 समलैंगिक युवकों में एड्स के लक्षण पहली बार मिले थे।
• भारत में एड्स का पहला रोगी 1986 में तमिलनाडु के वेल्लूर में मिला था।
• भारत सरकार ने 1992 में राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन की स्थापना की।
2030 तक एड्स के खात्मे का सतत विकास लक्ष्य हासिल करने के लिए भारत सरकार ने 2017 से 2024 तक 7 वर्षीय राष्ट्रीय कार्य नीति योजना भी तैयार की है।
• यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया भर में एड्स पीड़ित सर्वाधिक संख्या किशोरों की है, जिनमें से 10 लाख से भी अधिक किशोर दुनिया के 6 देशों दक्षिण अफ्रीका, नाइजीरिया, केन्या, मोजांबिक, तंजानिया और भारत में है।
• एड्स का प्रमुख कारण असुरक्षित यौन संबंध है। (80%)
• एचआईवी संक्रमण को निष्क्रिय करने के लिए एंटी-रिट्रोवायरल थेरेपी का सहारा लिया जाता है।

1 दिसंबर को नौसेना ने बंगाल की खाड़ी में ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के नौसैनिक वर्जन का परीक्षण किया।ब्रह्मोस एयरोस्पेस भारत-रूस का संयुक्त उपक्रम है। 
यह सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का उत्पादन करता है, जिसे पनडुब्बी, पोत, लड़ाकू विमान या जमीन से भी लांच किया जा सकता है।

वरुणास्त्र क्या है ? - यह एक हैवी टॉरपीडो है, जिसका विकास नौसेना विज्ञान और तकनीकी प्रयोगशाला द्वारा किया गया है।

रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-V का भारत में दूसरे व तीसरे चरण का ट्रायल शुरू हुआ है।
इस वैक्सीन का उत्पादन भारत स्थित फार्मास्यूटिकल कंपनी हेटेरो करेगी।
यह टीका 28वें दिन तक 91.4% और 42वें दिन तक 95% तक प्रभावी है।

ब्रिटेन दवा कंपनी फाइजर-बायोएनटेक के कोविड-19 टीके को मंजूरी देने वाला पहला देश बना है।

कैंब्रिज डिक्शनरी ने क्वारंटाइन को वर्ड ऑफ ईयर 2020 घोषित किया है।

अमेरिका के बाद चंद्रमा पर झंडा फहराने वाला चीन दुनिया का दूसरा देश बना है।

कोविन - 20
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में कोविड-19 वैक्सीन की निगरानी, डाटा रखने और लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए पंजीकृत करवाने के लिए कोविन - 20 ऐप लांच किया है।

बेरेशीट-2 परियोजना 
यह परियोजना चंद्रमा पर मानव रहित विमान उतारने की परियोजना है। बेरेशीट-1 प्रोब लैंडिंग करते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।
बेरेशीट हिब्रू भाषा का शब्द है जिसका अर्थ उत्पत्ति होता है।
बेरेशीट-2 परियोजना को 2024 में लांच किया जाएगा।

क्लाउड सीडिंग क्या है ?
यह कृत्रिम बारिश कराने की तकनीक है।
इसके तहत बादलों में थोड़ी मात्रा में सिल्वर आयोडाइड को प्रत्यारोपित किया जाता है। इसके बाद वह नए तत्व के आसपास संघनित हो जाता है और नमी की वजह से भारी होने पर समय से पहले बारिश के रूप में उस इलाके में बरस जाता है।
चीन इस तकनीक का प्रयोग अपने मौसम परिवर्तन कार्यक्रम (वेदर मोडिफिकेशन प्रोग्राम) के तहत करता आया है। 

8 दिसंबर को भारतीय सेना और डीआरडीओ ने संयुक्त रूप से पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में देश में निर्मित उन्नत युद्धक टैंक अर्जुन मार्क-1ए का परीक्षण किया है। 
इसे हंटर किलर भी कहा जाता है।
गौरतलब है कि देश में ही निर्मित अर्जुन टैंक को 2004 में सेना में शामिल गया था।

बीएसएनएल ने स्काइलो इंडिया के साथ साझेदारी में दुनिया की पहली उपग्रह आधारित नेरोबैंड-आइओटी सेवा शुरू की है।
IOT :- internet of things.
इससे बिना किसी मोबाइल टावर के समुद्री सीमा से फोन किया जा सकेगा।

जहाज हिमगिरि
14 दिसंबर, 2020 को गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई), कोलकाता में निर्मित ‘प्रोजेक्ट 17ए’ के तीन जहाजों में से एक ‘हिमगिरि’ को लॉन्च किया गया।
इस जहाज का नाम और चिह्न लियेंडर श्रेणी के पोत (Leander Class of ship) से लिया गया है, जो 50 वर्ष पहले 1970 में लॉन्च किया गया था।

स्वदेश निर्मित इंटरसेप्टर नौका
सूरत जिले के हजीरा में 15 दिसंबर, 2020 को आयोजित एक कार्यक्रम में स्वदेश निर्मित इंटरसेप्टर (शत्रु को पकड़ने वाली) नौका को भारतीय तटरक्षक बल के बेड़े में शामिल किया गया।
‘सी-454’ नामक इस नौका को ‘लार्सन एंड टूब्रो’ ने अपने हजीरा संयंत्र में तैयार किया है।
उथले पानी में 45 नॉट की गति क्षमता वाली यह नौका गश्ती बढ़ाने के साथ ही घुसपैठ, तस्करी एवं अंतरराष्ट्रीय समुद्री सीमा पर अवैध मत्स्यिकी जैसी गतिविधियों को रोकने में भी समर्थ होगी।

एस-400 वायु रक्षा प्रणालियों के अधिग्रहण पर तुर्की पर प्रतिबंध
संयुक्त राज्य अमेरिका ने 14 दिसंबर, 2020 को रूसी एस-400 वायु रक्षा प्रणालियों की खरीद पर तुर्की पर प्रतिबंध लगा दिया है।
• 'एस -400 ट्रायम्फ' (S-400 Triumf) रूस द्वारा डिजाइन की गई एक मोबाइल, सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली (SAM) है। इसे NATO द्वारा ‘SA-21 Growler’ भी कहा जाता है।
यह दुनिया में सबसे खतरनाक परिचालन वाली आधुनिक लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली है, जिसे अमेरिका द्वारा विकसित 'टर्मिनल हाई एल्टीट्यूड एरिया डिफेंस सिस्टम' (THAAD) से अग्रणी माना जाता है।
यह मिसाइल प्रणाली विमान, मानव रहित हवाई वाहनों (यूएवी) और बैलिस्टिक और क्रूज मिसाइलों सहित सभी प्रकार के हवाई लक्ष्यों को 400 किमी. की सीमा के भीतर 30 किमी. तक की ऊंचाई पर भेद सकती है।
यह मिसाइल प्रणाली 100 हवाई लक्ष्यों को ट्रैक कर सकती है और उनमें से छ: को एक साथ निशाना बना सकती है।
'एस-400 ट्रायम्फ’ वायु रक्षा प्रणाली एक बहुआयामी राडार, स्वायत्त पहचान और लक्ष्यीकरण प्रणाली, विमान भेदी मिसाइल प्रणाली, लांचर और कमान और नियंत्रण केंद्र को एकीकृत करती है।

भारत का 42वां संचार उपग्रह स्थापित
17 दिसंबर को भारत ने अपने 42 वें संचार उपग्रह CMS - 01 को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट (GTO) में सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया। इसका जीवनकाल 7 वर्ष होगा।
आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पीएसएलवी सी-50 रॉकेट के जरिए इस उपग्रह को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया।
यह उपग्रह 2011 में लांच किए गए GSAT-12 नामक उपग्रह का स्थान लेगा।
यह इसरो का इस साल का अंतिम मिशन था।
• CMS-01 पहला ऐसा संचार उपग्रह है, जिसको इसरो ने उसकी नई उपग्रह नामकरण योजना के तहत कक्षा में स्थापित किया है।
इसरो ने हाल ही में अपने उपग्रहों के नाम उसके वर्ग के आधार पर रखने का फैसला किया है।
नोट - इससे पहले इसरो ने अपने भू निगरानी उपग्रह का नाम EOS किया था।

डीआरडीओ की तीन प्रणालियां
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 18 दिसंबर, 2020 को थल सेना, नौसेना और वायु सेना को स्वदेशी रूप से विकसित डीआरडीओ की तीन प्रणालियां सौंपी।
1. थल सेना अध्यक्ष को ‘सीमा निगरानी प्रणाली’ (Border Surveillance System- BOSS), 
2. नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह को ‘भारतीय समुद्री परिस्थिति संबंधी जागरूकता प्रणाली’ (Indian Maritime Situational Awareness System- IMSAS) 
3. एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया को ‘अस्त्र एमके-I मिसाइल’ (ASTRA Mk-I Missile) सौंपी।

सीमा निगरानी प्रणाली:- यह सभी मौसमों में काम करने वाली एक इलेक्ट्रॉनिक निगरानी प्रणाली है, जिसे उपकरण अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (आईआरडीई), देहरादून द्वारा सफलतापूर्वक डिजाइन और विकसित किया गया है।
यह प्रणाली सुदूर संचालन क्षंमता के साथ कठोर एवं अधिक ऊंचाई वाले और उप-शून्य तापमान वाले क्षेत्रों में घुसपैठ का स्वत: पता लगाकर जांच और निगरानी की सुविधा देती है।
भारतीय समुद्री परिस्थिति संबंधी जागरूकता प्रणाली:-
यह एक अत्याधुनिक, पूरी तरह से स्वदेशी, उच्च प्रदर्शन वाली इंटेलिजन्ट सॉफ्टवेयर प्रणाली है, जो भारतीय नौसेना को वैश्विक समुद्री परिस्थिति चित्रण (Global Maritime Situational Picture), समुद्री नियोजन उपकरण और विश्लेषणात्मक क्षमता प्रदान करती है।
अस्त्रएमके-I मिसाइल:- यह स्वदेशी रूप से विकसित पहली ‘दृश्य सीमा से परे’ (Beyond Visual Range-BVR) मिसाइल है, जिसे सुखोई-30, हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए), मिग-29 और मिग-29K से प्रक्षेपित किया जा सकता है।

पहली हाइपरसोनिक पवन सुरंग ?
केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हैदराबाद, तेलंगाना में DRDO की अत्याधुनिक हाइपरसोनिक विंड टनल (HWT) परीक्षण सुविधा केंद्र का उद्घाटन किया। 
• भारत, अमेरिका और रूस के बाद दुनिया का तीसरा देश बना है, जिसके पास हाइपरसोनिक विंड टनल (HWT) परीक्षण सुविधा केंद्र है।
इस टनल की मदद से मिसाइल और लड़ाकू विमानों का परीक्षण किया जा सकेगा।

कौनसे दो ग्रह 400 साल में निकटतम आए हैं?
बृहस्पति और शनि 21 दिसम्बर, 2020 को सबसे निकट दूरी पर आए हैं। इससे पहले यह स्थिति 1623 में बनी थी। इसके बाद यह स्थिति 2080 में बनेगी क्योंकि विशाल होने के कारण यह दोनों ग्रह बहुत धीमी रफ्तार से परिक्रमा करते हैं।

किस देश ने स्पेस फोर्स बनाई है?
अमेरिका ने अपने अंतरिक्ष संसाधनों की सुरक्षा के लिए एक फोर्स का गठन किया है। इस फोर्स को यूनाइटेड स्टेट
स्पेस फोर्स के नाम से जाना जाएगा।
इसके सिपाहियों को गार्जियंस नाम दिया गया है। यह अमेरिका का छठा सशस्त्र दल है। इससे पहले चीन और रूस इस तरह की फोर्स का गठन कर चुके हैं।

MRSAM
24 दिसंबर को भारत में उड़ीसा के चांदीपुर से जमीन से हवा में मार करने वाली मीडियम रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (MRSAM) का परीक्षण किया।
मिशेल 360 डिग्री घूमकर 70 किलोमीटर के दायरे में आने वाले किसी भी मिसाइल, लड़ाकू विमान, हेलीकॉप्टर और निगरानी विमानों को मार गिराने में सक्षम है।

शिगेला संक्रमण
दिसंबर 2020 में केरल के कोझीकोड जिले में 'शिगेला संक्रमण' (shigella infection) के मामलों का पता चला है।
शिगेलोसिस (Shigellosis), या शिगेला संक्रमण, एक संक्रामक आंतों का संक्रमण है, जो शिगेला नामक बैक्टीरिया के एक वंश के कारण होता है।
बैक्टीरिया उन प्रमुख रोगजनकों में से एक है, जो अतिसार  के लिए जिम्मेदार है। इसमें मध्यम और गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, विशेष रूप से अफ्रीकी और दक्षिण एशियाई क्षेत्रों के बच्चों में

हाइपोथर्मिया
हाइपोथर्मिया एक गंभीर चिकित्सा अवस्था है, जहां शरीर गर्मी पैदा करने से पहले इसे खो देता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर का तापमान खतरनाक रूप से कम हो जाता है।सामान्य शरीर का तापमान लगभग 37 डिग्री सेल्सियस होता है, लेकिन हाइपोथर्मिया से पीड़ित व्यक्ति के शरीर का तापमान 35 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है।सामान्य लक्षणों में कंपकंपी, सांस लेने की धीमी दर, स्पष्ट न बोल पाना, ठंडी त्वचा और थकान शामिल हैं।अत्यधिक शराब का सेवन करने वालों में ठंड महसूस करने की क्षमता प्रभावित हो सकती है, उन्हें लगता है कि शरीर अंदर से गर्म है, लेकिन वास्तव में शराब पीने से रक्त वाहिकाएं फैल जाती हैं जिससे शरीर तेजी से गर्मी खो देता है।

भारतीय अंतरिक्ष स्टार्टअप, स्काईरूट एयरोस्पेस ने एक सॉलिड प्रोपल्शन रॉकेट इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है, जिसका नाम कलाम-5 है। इसके साथ ही यह ठोस ईंधन वाले रॉकेट सफलतापूर्वक परीक्षण करने वाली भारत की पहली निजी कंपनी बन गई है।

न्यूमोनिया का पहला स्वदेशी टीका 
28 दिसंबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सीरम इंस्टीट्यूट की तरफ से विकसित न्यूमोनिया का पहला स्वदेशी टीका (न्यूमोकोकल पॉलीसैक्राइड कांजुगेट - पीसीवी) लांच किया।
इसे अंतर्राष्ट्रीय गैर सरकारी स्वास्थ्य संगठन पाथ और बिल एवं मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सहयोग से विकसित किया गया है।
भारत के पहले न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन (PCV) को 'न्यूमोसिल (Pneumosil)' नाम दिया गया है।

परमाणु चुंबकीय अनुनाद परीक्षण
भारत में शहद के 13 ब्रांडों में से 10 ब्रांड ‘परमाणु चुंबकीय अनुनाद परीक्षण’ (Nuclear Magnetic Resonance Test) में विफल रहे हैं।
परमाणु चुंबकीय अनुनाद (NMR) स्पेक्ट्रोस्कोपी एक विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान तकनीक है, जिसका उपयोग गुणवत्ता नियंत्रण में और एक नमूने के अवयवों और शुद्धता और साथ ही इसकी आणविक संरचना का निर्धारण करने के लिए अनुसंधान में किया जाता है।
भारतीय कानून में स्थानीय स्तर पर विपणन किए जाने वाले शहद के लिए NMR परीक्षण की आवश्यकता नहीं है, किंतु निर्यात करने हेतु शहद के लिए यह परीक्षण आवश्यक है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने भारतीय नौसेना के साथ मिलकर गोवा तट से कुछ दूर समुद्र में IL 38SD एयरक्राफ्ट (इंडियन नेवी) से भारत के पहले स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित एयर
कंटेनर 'SAHAYAK-NG' का सफल उड़ान परीक्षण पूरा किया। 

30 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट ने सतह से हवा में 25 किलोमीटर दूरी तक मार करने वाली आकाश मिसाइल के निर्यात के प्रस्ताव को मंजूरी दी।
• डीआरडीओ द्वारा विकसित आकाश मिसाइल की 96% तकनीक व विकास स्वदेशी है। आकाश को वायु सेना में 2014 व थलसेना में 2015 में शामिल किया गया था।

देश की पहली लिथियम रिफाइनरी कहां स्थापित होगी ? - गुजरात
निमोनिया की पहली स्वदेशी वैक्सीन है ? - न्यूमोसिल

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments