आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें यूट्यूब, टेलीग्राम, प्ले स्टोर पर DevEduNotes सर्च करें।

चर्चित सूचकांक। दिसंबर 2020। रिपोर्ट एवं सूची

  चर्चित सूचकांक


चर्चित सूचकांक दिसंबर 2020

Famous index december 2020.

विश्‍व मलेरिया रिपोर्ट 2020
30 नवंबर, 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2020 के अनुसार भारत ने मलेरिया के मामलों में कमी लाने के काम में प्रभावी प्रगति की है।
भारत इस बीमारी से प्रभावित वह अकेला देश है, जहां 2018 के मुकाबले 2019 में इस बीमारी के मामलों में 17.6% की कमी दर्ज की गई।
2016 में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने ‘नेशनल फ्रेमवर्क फॉर मलेरिया एलिमिनेशन’(एनएफएमई) की शुरुआत की तथा जुलाई 2017 में मलेरिया उन्मूलन के लिए एक राष्ट्रीय रणनीतिक योजना 2017- 2022 की शुरुआत की गई।
विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2020 के अनुसार 2019 में दुनिया भर में मलेरिया के 22.9 करोड़ मामले सामने आए।

ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स
ग्लोबल टेररिज्म इंडेक्स (GTI) 2020 में भारत को 2019 में आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित देशों की सूची में वैश्विक स्तर पर 8 वें स्थान पर रखा गया है। भारत का GTI स्कोर 10.7 में से 7.353 रहा।
इस सूचकांक में दक्षिण एशिया 2019 में आतंकवाद से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र रहा।
विश्व स्तर पर आतंकवाद के कारण होने वाली मौतों में 2018 की तुलना में 2019 में 15% की गिरावट दर्ज की गईं।

देश के 100 सर्वश्रेष्ठ थाने
3 दिसंबर को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देश के 100 सर्वश्रेष्ठ थानों की सूची जारी की।
देश का सर्वश्रेष्ठ थाना - नोंगपोक सेेमकई (थौबल जिला, मणिपुर)

यूएस एयर क्वालिटी इंडेक्स द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तान का लाहौर दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है। भारत की राजधानी नई दिल्ली विश्व का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर है।

ग्लोबल फायर पावर रैंकिंग 2020
इसके अनुसार विश्व में चीन और भारत के पास सबसे बड़ी सेना है। चीन की सेना में 21.83 लाख और भारत के पास कुल 14.44 लाख जवान है।

भारत में तस्करी रिपोर्ट 2019-20
केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट मामलों की मंत्री निर्मला सीतारमण ने 4 दिसंबर, 2020 को राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के 63वें स्थापना दिवस के अवसर पर 'भारत में तस्करी रिपोर्ट 2019-20' जारी की।
उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना और तमिलनाडु में 2019-20 के दौरान सबसे ज्यादा मादक पदार्थों की बरामदगी हुई है।

वैश्विक जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक 2021
7 दिसंबर, 2020 को जर्मनी में जारी वैश्विक जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक 2021 (Climate Change Performance Index-CCPI) में भारत लगातार दूसरे वर्ष शीर्ष 10 में बना हुआ है।
ग्रीनहाउस गैसों (GHG) का सबसे बड़ा वर्तमान उत्सर्जक चीन 33वें स्थान पर है, जबकि ऐतिहासिक रूप से सबसे बड़ा प्रदूषक, संयुक्त राज्य अमेरिका सूची में सबसे नीचे 61वें स्थान पर है।
भारत पिछले साल नौवें स्थान से एक स्थान नीचे खिसक गया है। 
वैश्विक रूप से CCPI की वार्षिक रिपोर्ट के लिए मूल्यांकन किए गए देशों में से कोई भी देश पेरिस समझौते के लक्ष्यों की दिशा में अग्रसर नहीं है।
CCPI 2021, जो वर्ष 2020 को कवर करता है, के अनुसार केवल दो जी20 देश - यूनाइटेड किंगडम (5वें) और भारत (10वें) उच्च रैंक वाले देश हैं।
सूचकांक 57 देशों और यूरोपीय संघ (एक पूरे के रूप में) को चार श्रेणियों - जीएचजी उत्सर्जन (40%), नवीकरणीय ऊर्जा (20%), ऊर्जा उपयोग (20%) और जलवायु नीति (20%) के प्रदर्शन के आधार पर तैयार किया गया है।
CCPI को क्लाइमेट एक्शन नेटवर्क के साथ गैर-लाभकारी संगठन 'जर्मनवॉच' और न्यूक्लाइमेट इंस्टिट्यूट (जर्मनी) द्वारा विकसित किया गया है।
इसे वर्ष 2005 से प्रतिवर्ष प्रकाशित किया जा रहा है।

विश्व में हथियारों के बाजार पर सिपरी रिपोर्ट
7 दिसंबर, 2020 को स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट-सिपरी (Stockholm International Peace Research Institute– SIPRI) द्वारा विश्व में हथियारों के बाजार पर एक रिपोर्ट जारी की गई।
वर्ष 2019 में विश्व के ‘शीर्ष 25’ निर्माताओं द्वारा की गयी कुल बिक्री में अमेरिकी हथियार उद्योग का 61% हिस्सा और चीनी हथियार उद्योग का 15.7% हिस्सा था।
शीर्ष 25 निर्माताओं की कुल बिक्री में 2018 के मुकाबले 8.5% की वृद्धि हुई और यह 2019 में 361 बिलियन डॉलर तक पहुँच गई, जो कि संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों के वार्षिक बजट का 50 गुना अधिक है।

पांचवां राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण
केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने 12 दिसंबर, 2020 को पांचवां राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) जारी किया, जिसमें भारत और इसके राज्यों व केंद्र-शासित प्रदेशों के लिए जनसंख्या, स्वास्थ्य और पोषण के बारे में विस्तृत जानकारी शामिल है।
• महाराष्ट्र, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और गुजरात सहित 17 राज्यों और 5 केंद्र-शासित प्रदेशों के परिणाम को चरण- I के रूप में जारी किया गया है।
• शेष 12 राज्यों और 2 केंद्र-शासित प्रदेशों को कवर करने के लिए चरण II को कोविड-19 के कारण निलंबित कर दिया गया था, जिसे नवंबर में फिर से शुरू किया गया है और मई, 2021 तक पूरा होने की संभावना है।
• प्रजनन दर में और गिरावट आई है, गर्भनिरोधक उपयोग में वृद्धि हुई है।

• देश के 22 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में किए गए राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक पांच राज्यों की 30% से अधिक महिलाएं अपने पति द्वारा शारीरिक एवं यौन हिंसा की शिकार हुई है।

वैश्विक ज्ञान सूचकांक 2020
संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) और मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम नॉलेज फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से 10 दिसंबर, 2020 को दुबई में एक सम्मेलन में वैश्विक ज्ञान सूचकांक 2020' (Global Knowledge Index 2020) जारी किया।
स्विट्जरलैंड 73.6 के स्कोर के साथ लगातार चौथी बार शीर्ष पर रहा। 
44.4 के स्कोर के साथ, भारत विश्व में 75वें स्थान पर है और अन्य दक्षिण एशियाई देशों से आगे रहा।
वैश्विक ज्ञान सूचकांक 2020 में बांग्लादेश 138 देशों में से 112 वें स्थान पर है। इसने 35.9 अंक हासिल किए हैं, जो दक्षिण एशियाई देशों में सबसे कम है।

देश में 95% थानों में सीसीटीएनएस का इस्तेमाल
गृह मंत्रालय के नेशनल ई गवर्नेंस प्लान के तहत देशभर में 95% से ज्यादा थानों में क्राईम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम (CCTNS) का इस्तेमाल किया जा रहा है।
देश में कुल 16098 थाने है, जिनमें से 97% में कनेक्टिविटी उपलब्ध है और इनमें से 93% में 100% एफआइआर इस प्रोजेक्ट के तहत दर्ज की जाती है।

मानव विकास सूचकांक 2020
Human development index
संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा मानव विकास सूचकांक में 189 देशों की रैंकिंग में भारत को 131वीं रैंक प्राप्त हुई है।
• भारत का एचडीआई मूल्य 0.645 रहा। इस कारण भारत को मध्यम मानव विकास वाले देशों की श्रेणी में शामिल होना पड़ा।
एचडीआई वैल्यू जितनी 1 के नजदीक होती है उतनी अच्छी मानी जाती है।
• मानव विकास सूचकांक के द्वारा किसी देश के जीवन स्तर को मापा जाता है। संबंधित देश की जीडीपी, स्वास्थ्य एवं शिक्षा को इस सूचकांक का आधार बनाया जाता है।
• इस सूचकांक में नॉर्वे को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ है। 
1. नॉर्वे    
2. आयरलैंड 3. स्विट्जरलैंड
• भारत के सांसद भूटान (129), बांग्लादेश (133), नेपाल (142), पाकिस्तान (154) मध्यम मानव विकास की श्रेणी में शामिल रहे।
• यूएनडीपी ने भारत में कंबोडिया और थाईलैंड के समान कुपोषण को एक बड़ी समस्या बताया है।
नोट - 2020 में जारी वैश्विक भूख सूचकांक में भारत को 107 देशों में से 94 वां स्थान मिला था। इस सूचकांक में भारत गंभीर श्रेणी वाले देशों में शामिल है।
पीएचडीआई
कोरोना संक्रमण के बीच इस बार रिपोर्ट में प्लेनेट्री प्रेशर एडजेस्टेड एचडीआई (पीएचडीआई) नामक एक नया सूचकांक भी जोड़ा गया है।
इस सूचकांक में किसी देश द्वारा किए जा रहे कार्बन उत्सर्जन का उल्लेख किया गया है।

मानव स्वतंत्रता सूचकांक 2020
17 दिसंबर, 2020 को संयुक्त राज्य अमेरिका के कैटो इंस्टीट्यूट और कनाडा के फ्रेजर इंस्टीट्यूट द्वारा व्यक्तिगत, नागरिक और आर्थिक स्वतंत्रता से संबंधित ‘मानव स्वतंत्रता सूचकांक 2020’ जारी किया गया।
इस सूचकांक में वर्ष 2008 से 2018 तक के डेटा का उपयोग किया गया। सूचकांक ने 162 देशों में व्यक्तिगत, नागरिक और आर्थिक स्वतंत्रता के 76 संकेतकों को कवर किया है।
सूचकांक में वैश्विक स्तर पर वर्ष 2008 से व्यक्तिगत स्वतंत्रता में गिरावट देखी गई है।
• सूचकांक में न्यूजीलैंड शीर्ष स्थान पर है, उसके बाद स्विट्जरलैंड दूसरे, हांगकांग तीसरे, डेनमार्क चौथे तथा ऑस्ट्रेलिया पांचवें स्थान पर रहा।
• सूचकांक में सबसे निचले स्थान पर सीरिया (162वें), सूडान (161वें) और वेनेजुएला (160वें) हैं।
• भारत की स्थिति:- भारत सूचकांक में 111वें स्थान पर है। भारत का 10 में से 6.43 का समग्र स्कोर था।
व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मामले में भारत 110 वें स्थान पर और आर्थिक स्तंत्रता में 105वें स्थान पर है।
सूचकांक में भारत के पड़ोसी देशों में चीन को 129वें, बांग्लादेश को 139वें और पाकिस्तान को 140वें स्थान पर रखा गया है।
• 2019 में भारत 94वें स्थान पर था।

भारत में तेंदुओं की स्थिति पर रिपोर्ट
केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने 21 दिसंबर, 2020 को नई दिल्ली में ‘भारत में तेंदुओं की स्थिति पर रिपोर्ट’ जारी की।
• रिपोर्ट के अनुसार भारत में तेंदुओं की संख्या 12,852 तक पहुंच गई है। जबकि इससे पहले 2014 में हुई गणना के अनुसार देश में 7,910 तेंदुए थे। इस अवधि में तेंदुओं की संख्या में 60% बढ़ोतरी हुई है।
कैमरा ट्रैपिंग विधि का उपयोग करके तेंदुए की आबादी का अनुमान लगाया गया है।
गणना के अनुसार सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश में 3,421 तेंदुए, कर्नाटक में 1,783 तेंदुए और महाराष्ट्र में 1,690 तेंदुए पाए गए हैं। भारत में, तेंदुओं ने पिछले 120-200 वर्षों में संभवतः ‘मानव-जनित 75-90% आबादी गिरावट’ का अनुभव किया है।
भारतीय उपमहाद्वीप में अवैध शिकार, पर्यावास नुकसान, प्राकृतिक शिकार में कमी और संघर्ष तेंदुए की आबादी के लिए बड़े खतरे हैं। इन सभी के कारण अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) द्वारा प्रजाति की स्थिति को 'संकटासन्न' (Near Threatened) से 'अतिसंवेदंशील' (Vulnerable) कर दिया गया ।
क्षेत्रवार वितरण:- मध्य भारत और पूर्वी घाटों में तेंदुओं की संख्या सबसे ज्यादा 8,071 है।

आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश स्थानीय निकायों में सुधार के मामले में सबसे आगे
वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग के अनुरूप आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश ने अपने स्थानीय निकायों के कामकाज में काफी सुधार किया है। इस दिशा में इन राज्यों को और प्रोत्साहित करने के लिए वित्त मंत्रालय ने इन्हें खुले बाजार से 4,898 करेाड़ रुपए की अतिरिक्त पूंजी जुटाने की अनुमति दी है।
• आंध्र प्रदेश को 2,525 करोड़ रुपए और मध्य प्रदेश को 2,373 रुपए की अतिरिक्त पूंजी जुटाने की अनुमति दी गई है।
• आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश द्वारा किए गए सुधारों के अलावा, 10 राज्यों ने वन नेशन, वन राशन कार्ड प्रणाली को लागू किया है और 6 राज्यों ने अब तक कारोबार को सुगम बनाने के लिए सुधार किए हैं।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments