आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें यूट्यूब, टेलीग्राम, प्ले स्टोर पर DevEduNotes सर्च करें।

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी। नवंबर 2020

 
Environment and Ecology


पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी नवंबर 2020

स्किंक्स 
स्किंक, लंबे आकार की, अपेक्षाकृत छोटे अथवा बिना पैरों वाली सरीसृप प्रजाति होती है। स्किंक प्रजातियों में कम अंग या पूरी तरह से अंगों का अभाव पाया जाता है, अत: ये सर्पों के समान रेंगकर चलती हैं। इसकी त्वचा शल्कीय व चिकनी होती है।
हाल ही भारतीय प्राणी विज्ञान सर्वेक्षण (Zoological Survey of India- ZSI) द्वारा स्किंक प्रजातियों के वितरण पर ‘स्किंक्स ऑफ इंडिया’ (Skinks of India) का प्रकाशन किया गया है।
भारत में स्किंक्स (Skinks) की 62 प्रजातियां पायी जाती है, जिनमें से लगभग 57% (33 प्रजातियाँ) स्थानिक हैं। 
ये प्रजातियाँ आमतौर पर देश में सभी प्रकार के आवासों, जैसे रेतीले मैदानों, उष्णकटिबंधीय और समशीतोष्ण क्षेत्रों में पाई जाती हैं। 
विश्व भर में स्किंक्स की 1,602 प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से भारत में 4% से भी कम प्रजातियाँ पाई जाती हैं।

पन्ना टाइगर रिजर्व को बायोस्फीयर रिजर्व का दर्जा
यूनेस्को ने भारत के पन्ना टाइगर रिजर्व को बायोस्फीयर रिजर्व का दर्जा दिया है।
मध्य प्रदेश स्थित पन्ना टाइगर रिजर्व को यूनेस्को की वर्ल्ड नेटवर्क ऑफ बायोस्फीयर रिजर्व्स सूची में शामिल किया गया है।
यह भारत का 12वां और मध्य प्रदेश का पचमढ़ी और अमरकंटक के बाद तीसरा बायोस्फीयर रिजर्व (जैव आरक्षित क्षेत्र) है, जिसे वर्ल्ड नेटवर्क ऑफ बायोस्फीयर रिजर्व्स सूची में शामिल किया गया है।

प्रोजेक्ट लायन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 15 अगस्त, 2020 को घोषित 'प्रोजेक्ट लायन' (Project Lion) के तहत कूनो-पालपुर वन्यजीव अभयारण्य के अलावा छ: नए पुनर्वास स्थलों की पहचान की गई है।  
1. माधव राष्ट्रीय उद्यान, मध्य प्रदेश
2. सीतामाता वन्यजीव अभयारण्य, राजस्थान 
3. मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व, राजस्थान
4. गांधी सागर वन्यजीव अभयारण्य, मध्य प्रदेश; 
5. कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य, राजस्थान 
6. जेसोर-बालाराम अंबाजी वन्यजीव अभयारण्य और आसपास के क्षेत्र, गुजरात

यह कार्यक्रम एशियाई शेर के संरक्षण के लिए शुरू किया गया है, जिसकी अंतिम शेष जंगली आबादी 30,000 वर्ग किमी. क्षेत्र में फैले गुजरात के ‘एशियाई शेर परिदृश्य’ (Asiatic lion landscape) में पायी जाती है। 
एशियाई शेर परिदृश्य में 'गिर राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य' तथा जूनागढ़, अमरेली, भावनगर, पोरबंदर, राजकोट, गिर-सोमनाथ, बोटाद और जामनगर सहित गुजरात के आठ जिलों को शामिल किया गया है। 
सुप्रीम कोर्ट ने 2013 में गुजरात सरकार को एशियाई शेरों को मध्य प्रदेश के कूनो-पालपुर वन्यजीव अभयारण्य में स्थानांतरित करने का आदेश दिया था। 
एशियाई शेरों को आईयूसीएन (IUCN) द्वारा 'संकटग्रस्त' (endangered) प्रजातियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

गोनी क्या है ?
गोनी एक टाइफून है, जिससे हाल ही में फिलीपींस बहुत प्रभावित हुआ है। गोनी या रोली एक सुपर टाइफून था जिसकी गति 215 से 295 किलोमीटर प्रति घंटा थी।

जलवायु परिवर्तन पर निजी क्षेत्र की घोषणा
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की अध्यक्षता में 5 नवंबर, 2020 को आयोजित जलवायु परिवर्तन विषय पर 'वर्चुअल भारत सीईओ फोरम' के दौरान उद्योग जगत की 24 अग्रणी हस्तियों द्वारा 'जलवायु परिवर्तन पर निजी क्षेत्र के घोषणा पत्र' पर हस्ताक्षर किए गए।
भारत जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (UNFCCC) के तहत पेरिस समझौते का एक हस्ताक्षरकर्ता है। 
भारत में तीन मात्रात्मक जलवायु परिवर्तन लक्ष्य  निर्धारित हैं -
2005 के स्तर से 2030 तक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की उत्सर्जन तीव्रता में 33 से 35% की कमी लाना; 
गैर-जीवाश्म ईंधन आधारित ऊर्जा संसाधनों से लगभग 40% संचयी बिजली स्थापित करने की क्षमता को 2030 तक प्राप्त करना; 
2030 तक अतिरिक्त वन और वृक्ष आवरण के माध्यम से 2.5 से 3 बिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड के बराबर का अतिरिक्त कार्बन सिंक तैयार करना।

युद्ध और सशस्त्र संघर्ष में पर्यावरण दोहन रोकथाम हेतु अंतर्राष्‍ट्रीय दिवस
हर साल 6 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर युद्ध और सशस्‍त्र संघर्ष में पर्यावरण के दोहन को रोकने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय दिवस मनाया जाता है। 

वैश्विक स्तर पर ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन स्त्रोतों को चार भागों में बांटा गया है। इनमें ऊर्जा, कृषि, उद्योग और अपशिष्ट शामिल है। इनमें से तीन चौथाई उत्सर्जन (73.2%) के लिए ऊर्जा की खपत  जिम्मेदार है।

पर्पल फ्रॉग
जैव विविधता के प्रमुख केंद्र पश्चिमी घाट में पाए जाने वाले मेंढक की बेहद दुर्लभ प्रजाति महाबली को केरल का राजकीय उभयचर प्राणी घोषित किया जा सकता है।
इसे पर्पल फ्रॉग भी कहते हैं।
यह आईयूसीएन रेड लिस्ट यानी विलुप्तप्राय जीवों में शामिल है।

केरल सरकार ने मछली पकड़ने वाले समुदाय की आजीविका में सुधार करने के लिए परिवर्तनम नामक एक पर्यावरणीय कार्यक्रम की शुरूआत की है। 

भारत की दो आर्द्रभूमि रामसर स्थल में 
11 नवंबर, 2020 को भारत के दो और आर्द्रभूमि क्षेत्रों लोनार झील और सुर सरोवर को रामसर स्थल के रूप में शामिल किया गया है। भारत में अब रामसर स्थलों की संख्या 41 (दक्षिण एशिया में सर्वाधिक) हो गई है।  
हाल ही अक्टूबर 2020 में बिहार के बेगूसराय जिले में काबरताल को अंतरराष्ट्रीय महत्व के एक आर्द्रभूमि के रूप में मान्यता दी गई, जो राज्य की ऐसी पहली आर्द्रभूमि है। 
इसके अलावा देहरादून में आसन कंजर्वेशन रिजर्व को भी अक्टूबर 2020 में उत्तराखंड के पहले वेटलैंड के तौर पर रामसर स्थल के रूप में नामित किया गया। 
लोनर झील: महाराष्ट्र में बुलढ़ाना जिले की यह झील लगभग 50 हजार वर्ष पूर्व एक उल्का पिंड के टकराने से अस्तित्व में आई थी।  झील में लवणता और क्षारीयता अधिक है। 
सुर सरोवर: इसे मूल रूप से गर्मियों में आगरा शहर को पानी की आपूर्ति करने के लिए बनाया गया था। इसे ‘कीथम झील’ के नाम से भी जाना जाता है।
आर्द्रभूमि के समुचित इस्तेमाल और इसके संरक्षण के लिए ‘रामसर कन्वेन्शन’ एक अंतरराष्ट्रीय समझौता है। इसका नाम ईरान के शहर ‘रामसर’ के नाम पर है, जहां इस समझौते पर 2 फरवरी, 1971 को हस्ताक्षर हुए थे।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने गुड़गांव में बढ़ते वायु प्रदूषण से निपटने के लिए  'प्रोजेक्ट एयर केयर' का अनावरण किया है।  

गुजरात के सूरत जिले की खदान से मिले 5 करोड़ साल पुराने जीवाश्म के आधार पर वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला है कि घोड़े और गैंडे की उत्पत्ति भारत में हुई थी।

रेड पांडा
यह लुप्तप्राय पशु भारत के पूर्वी हिमालय क्षेत्र (पश्चिम बंगाल, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश) में ही पाया जाता है।
• भारत के अलावा यह चीन, नेपाल, भूटान और उत्तरी म्यांमार में भी पाया जाता है।
• दुनिया में रेड पांडा की आबादी लगभग 10,000 है जबकि भारत में इनकी संख्या 2500 है।
• लाल पांडा की दो प्रजातियां है -
1. चीनी (ऐल्यूरस स्टाइलानी)
2. हिमालयन रेड पांडा (आयिलस फुलगेन्स)

बर्ड ऑफ द ईयर
न्यूजीलैंड में काकापो तोता को बर्ड ऑफ द ईयर घोषित किया गया।
काकापो तोता दुनिया का सबसे भारी तोता है। रात में देखने वाला यह पक्षी उड़ नहीं सकता।
तोतों की यह प्रजाति न्यूजीलैंड के समुद्री तटों पर पाई जाती है।

18 नवंबर 1972 को बंगाल टाइगर को राष्ट्रीय पशु चुना गया। इसी साल भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम लागू हुआ।
1973 में प्रोजेक्ट टाइगर लांच किया गया।

ग्रीन इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन योजना
18 नवंबर को ब्रिटेन सरकार ने 10 सूत्रीय ग्रीन इंडस्ट्रियल रिवॉल्यूशन योजना लागू करने की घोषणा की।
• देश ने 2050 तक कार्बन उत्सर्जन से मुक्ति का लक्ष्य रखा है।
• ब्रिटेन दुनिया का पहला देश होगा जहां 10 साल बाद सिर्फ इलेक्ट्रिक कारें ही चलेगी। यहां 2030 से पेट्रोल-डीजल वाली कारों की बिक्री पर पाबंदी लगा दी गई है।

गोवा के महावीर वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरी में रात के अंधेरे में हल्के नीले हरे और बैंगनी रंग में चमकने वाला मशरूम मिला है।

निवार चक्रवात
हाल ही बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दाब से उत्पन्न निवार चक्रवात 25 नवंबर 2020 को 120-130 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तमिलनाडु-पुडुचेरी के तट से टकराया है।
• निवार का नाम ईरान ने दिया है जिसका अर्थ होता है - रोकथाम

पीलीभीत टाइगर रिजर्व और उत्तर प्रदेश वन विभाग को बाघों की संख्या को दोगुना करने के 10 वर्षों के लक्ष्य को मात्र चार वर्षों में हासिल करने के लिए पहला अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार "TX2" प्रदान किया गया है। TX2 का लक्ष्य ‘Tigers times two’ (बाघों को दो गुना करना) है। 
इस टाइगर रिजर्व में 2014 में 25 बाघ थे, जिनकी संख्या 2018 में बढ़कर 65 हो गई।

विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस 26 नवंबर
पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए प्रतिवर्ष 26 नवंबर को विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस मनाया जाता है। यह दिवस संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम द्वारा आयोजित किया जाता है।

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री, प्रकाश जावड़ेकर ने इंडिया क्लाइमेट चेंज नॉलेज पोर्टल लॉन्च किया है।

बेंगलुरु में मेंढक की नई प्रजाति
भारतीय विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं ने बेंगलुरु में मेंढक की नई प्रजाति खोजी है। इसका नाम स्पैरोथेका बेंगलुरु रखा गया है। यह स्पैरोथेका वंश का बिल खोदने वाला मेंढक है।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments