आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

नोबेल पुरस्कार 2020

 
नोबेल पुरस्कार

नोबेल पुरस्कार के बारे में

यह पुरस्कार डायनामाइट का आविष्कार करने वाले स्वीडन के महान वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में वर्ष 1901 में शुरू किया गया था। 
यह पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंस की ओर से प्रदान किया जाता है। नोबेल फाउंडेशन की स्थापना 29 जून 1900 में हुई थी। इस फाउंडेशन में कुल 5 लोग होते हैं। स्वीडन का किंग ऑफ काउंसिल इस फाउंडेशन के मुखिया का चयन करता है।   
हर वर्ष अक्टूबर में नोबेल पुरस्कार की घोषणा होती है और 10 दिसंबर को अल्फ्रेड नोबेल की बरसी पर स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम और नॉर्वे की राजधानी ऑस्लो में पुरस्काार प्रदान किए जाते हैं।

पुरस्कार राशि - 
नोबेल पुरस्कार में इस बार 10 मिलियन स्वीडिश क्रोनर (लगभग 8.33 करोड़ रुपए) की राशि दी जाएगी। इसके साथ 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है। पदक के एक ओर नोबेल पुरस्कार के जनक अल्फ्रेड नोबेल की छवि, उनके जन्म तथा मृत्यु की तारीख लिखी होती है। पदक के दूसरी तरफ यूनानी देवी आइसिस का चित्र, रॉयल एकेडमी ऑफ साइंसेज, स्टॉकहोम तथा पुरस्कार पाने वाले व्यक्ति की जानकारी होती है।

नोट - सितंबर 2020 में नोबेल फाउंडेशन के प्रमुख किनस्टेन ने घोषणा की, कि इस वर्ष नोबेल पुरस्कार पाने वालों को पुरस्कार की अतिरिक्त राशि मिलेगी।
इस वर्ष नोबेल विजेताओं को एक लाख 10 हजार डॉलर अधिक दिए जाएंगे।

यह पुरस्कार शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन, चिकित्सा विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में विश्व का सर्वोच्च पुरस्कार है।
हर पुरस्कार एक अलग समिति द्वारा प्रदान किया जाता है।
द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा भौतिकी, अर्थशास्त्र और रसायन शास्त्र के क्षेत्र में यह पुरस्कार दिया जाता है।
कैरोलिंस्का इंस्टिट्यूट द्वारा चिकित्सा के क्षेत्र में
नॉर्वे नोबेल समिति शांति के क्षेत्र में पुरस्कार प्रदान करती है।


नोबेल पुरस्कार 2020

वर्ष 2020 के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा अक्टूबर 2020 में अलग-अलग तिथियों में की गई।

चिकित्सा विज्ञान
5 अक्टूबर को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में 2020 का नोबेल पुरस्कार हार्वे जे. अल्टर (अमेरिका), चार्ल्स एम. राइस (अमेरिका) और माइकल ह्यूटन (ब्रिटेन) को संयुक्त रूप से उनकी हेपेटाइटिस-सी वायरस की खोज के लिए देने की घोषणा की गई।
पुरस्कार राशि : विजेताओं को स्वर्ण पदक और आठ करोड़ रुपए से ज्यादा की पुरस्कार राशि दी जाएगी।

हेपेटाइटिस-सी वायरस एक प्रमुख वैश्विक स्वास्थ्य समस्या है, जो दुनिया भर के लोगों में सिरोसिस और यकृत कैंसर का कारण बनती है।
इसके कारण लोगों को लीवर ट्रांसप्लांट करवाना पड़ता है।
• डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनिया भर में हेपेटाइटिस के 7 करोड़ से अधिक मामले हैं और प्रत्येक वर्ष 4 लाख से अधिक मौतें होती हैं।

नोट - 1976 में रक्त जनित हेपेटाइटिस-बी की खोज के लिए ब्रच ब्रल्मबर्ग को नोबेल पुरस्कार दिया गया।
 • हेपेटाइटिस-ए दूषित पानी और भोजन से फैलता है, परंतु इससे पीड़ित व्यक्ति आसानी से ठीक हो जाता है।

भौतिकी का नोबेल पुरस्कार 2020
भौतिक विज्ञान केे क्षेत्र के वर्ष 2020 के नोबेल पुरस्कार की घोषणा 6 अक्टूबर 2020 को रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा स्टॉकहोम में की गई।
इस वर्ष यह पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों रोजर पेनरोज (ब्रिटेन), रेइनहार्ड गेनजल (जर्मनी) और एंड्रिया घेज़ (अमेरिका) को संयुक्त रूप से उनकी ब्लैक होल से संबंधित खोजों के लिए देने की घोषणा की गई।

पुरस्कार राशि : पुरस्कार का आधा हिस्सा यूनाइटेड किंगडम के रोजर पेनरोज को दिया जाएगा।
खोज: ब्लैक होल का निर्माण सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत का एक मजबूत पूर्वानुमान (robust prediction) है।
रोजर पेनरोज ने बताया कि ब्लैक होल बनने का कारण सापेक्षता का सामान्य सिद्धांत है।

रेनहार्ड गेनजेल और एंड्रिया गेज को पुरस्कार का बाकी आधा हिस्सा दिया जाएगा।
खोज: हमारी आकाशगंगा के केंद्र में एक सुपरमैसिव कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट (supermassive compact object) ‘सुपरमैसिव ब्लैक होल’ की खोज के लिए।
इन्होंने बताया है, कि एक अदृश्य और भारी वस्तु आकाशगंगा में स्थित तारों की कक्षाओं को नियंत्रित करती है।

नोट - 1903 में मैरी क्यूरी, 1963 में मारिया गोएपर्ट-मेयर (Maria Goeppert-Mayer) और 2018 में डोन्ना स्ट्रिकलैंड (Donna Strickland) के बाद एंड्रिया गेज चौथी महिला हैं, जिन्हें भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार 2020
रसायन विज्ञान केे क्षेत्र के वर्ष 2020 के नोबेल पुरस्कार की घोषणा 7 अक्टूबर 2020 को रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा स्टॉकहोम में की गई।
इस साल का रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार "जीनोम एडिटिंग नई पद्धति खोजने के लिए" इमैनुएल चार्पियर (फ्रांस) और जेनिफर ए. डोडना (अमेरिका) को दिया गया है।

इमैनुएल चार्पियर और जेनिफर ए. डोडना ने CRISPR-Cas9 नामक जीनोम एडिटिंग (gene-editing) तकनीक को विकसित किया है। इसे जेनेटिक सीज़र्स (कैंची) नाम दिया गया है।
जेनेटिक सीज़र्स: a tool for rewriting the code of life (जीवन चक्र के पुनर्लेखन का एक उपकरण)

इसके प्रयोग से शोधकर्ता जानवरों, पौधों और सूक्ष्मजीवों के डीएनए को अत्यधिक उच्च परिशुद्धता के साथ बदल सकते हैं। यह तकनीक कैंसर उपचार और अनुवांशिक बीमारियों के इलाज में उपयोगी है।

नोट - इससे पहले अब तक 5 महिलाओं को रसायन के लिए नोबेल पुरस्कार मिल चुका है।
मैरी क्यूरी एकमात्र महिला है, जिन्हें फिजिक्स और केमिस्ट्री दोनों के लिए नोबेल पुरस्कार मिला है।
अब तक 111 बार केमिस्ट्री का नोबेल पुरस्कार दिया गया है।

साहित्य का नोबेल पुरस्कार 2020
8 अक्टूबर, 2020 को स्वीडिश एकेडमी द्वारा साहित्य के लिए 2020 के नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई। इस वर्ष 77 वर्षीया अमेरिकी कवयित्री लुईस ग्लूक को यह पुरस्कार दिया गया।

ग्लूक को उनकी बेमिसाल काव्यात्मक आवाज के लिए सम्मानित किया गया, जो खूबसूरती के साथ व्यक्तिगत अस्तित्व को सार्वभौमिक बनाता है।

ग्लुक ने 1968 में 'फर्स्टबोर्न' (Firstborn) शीर्षक से अपने काव्य संग्रह की शुरुआत की।
उन्होंने 1993 में अपने संग्रह 'द वाइल्ड आइरिस' (The Wild Iris) के लिए पुलित्जर पुरस्कार और 2014 में फेदफुल (Faithful) और वर्चुअस नाइट के लिए 'नेशनल बुक अवार्ड' जीता था।
वह साहित्य का नोबेल पुरस्कार जीतने वाली 16वीं महिला हैं और पिछले दशक में ओल्गा टोकार्चुक (2018), स्वेतलाना अलेक्सीविच (2015) और एलिस मुनरो (2013) के बाद साहित्य का नोबेल पुरस्कार जीतने वाली चौथी महिला हैं।

2020 का शांति नोबेल पुरस्कार
नॉर्वे नोबेल समिति ने वर्ष 2020 का शांति नोबेल पुरस्कार दुनिया भर में भूखे लोगों की मदद करने वाले विश्व खाद्य कार्यक्रम (World Food Programme) को देने की घोषणा की है।
• यह 12वीं बार है, जब संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी या व्यक्तित्व को शांति पुरस्कार दिया गया है।
इटली की राजधानी रोम स्थित विश्व खाद्य कार्यक्रम दुनिया का सबसे बड़ा मानवीय संगठन है, जो भूखे लोगों को भोजन उपलब्ध कराता है और खाद्य सुरक्षा को बढ़ावा देता है।
• डब्ल्यूएफपी ने वर्ष 2019 में 88 देशों में करीब 100 मिलियन लोगों को सहायता मुहैया कराई, जो तीव्र खाद्य असुरक्षा और भूख के शिकार थे।

विश्व खाद्य कार्यक्रम के बारे में
1961 में संयुक्त राष्ट्र ने दुनिया भर से भुखमरी को दूर करने के लिए विश्व खाद्य कार्यक्रम की स्थापना की।
संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ष 2015 में भूख की समस्या को खत्म करने हेतु इसे सतत विकास लक्ष्यों में शामिल किया गया था। अर्थात विश्व खाद्य कार्यक्रम 2030 तक दुनिया से भुखमरी को खत्म करने के लिए कृत संकल्प है।

अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार 2020
अर्थशास्त्र केे क्षेत्र के वर्ष 2020 के नोबेल पुरस्कार (Sveriges Riksbank Prize in Economic Sciences in Memory of Alfred Nobel 2020) की घोषणा 12 अक्टूबर 2020 को रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा स्टॉकहोम में की गई।
इस साल का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार आर्थिक विज्ञान के क्षेत्र में  नीलामी के सिद्धांत और नए नीलामी प्रारूपों के आविष्कारों में सुधार के लिए अमेरिका के पॉल आर. मिलग्रोम और रॉबर्ट बी. विल्सन को दिया गया है।
पॉल मिलग्रोम और रॉबर्ट विल्सन ने अध्ययन किया है, कि नीलामी कैसे काम करती है।

नोट - सन 1968 में, Sveriges Riksbank (स्वीडन के केंद्रीय बैंक) ने नोबेल पुरस्कार के संस्थापक अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में अर्थशास्त्र केे क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार की स्थापना की। 
आर्थिक विज्ञान में पहला पुरस्कार 1969 में रगनार फ्रिस्क और जान टिनबर्गेन को दिया गया था। 


नोबेल पुरस्कार पाने वाले भारतीय/भारतीय मूल के व्यक्ति


 विजेता

 वर्ष

 क्षेत्र

 रवीन्द्रनाथ टैगोर

 1913

 साहित्य

 सी. वी. रमन

 1930

 भौतिकी

 हरगोविंद खुराना

 1968

 चिकित्सा

 मदर टेरेसा

 1979

 शांति

 एस चंद्रशेखर

 1993

 भौतिकी

 अमर्त्य सेन

 1998

 अर्थशास्त्र

 वीएस नायपॉल

 2001

 साहित्य

 वी. रामकृष्णन

 2009

 रसायन विज्ञान

 कैलाश सत्यार्थी

 2014

 शांति

 अभिजीत बनर्जी

 2019

 अर्थशास्त्र

 
• हरगोविंद खुराना, एस चंद्रशेखर, वी. रामकृष्णन और अभिजीत बनर्जी पुरस्कार की घोषणा से पूर्व ही अमेरिकी नागरिकता ग्रहण कर चुके थे।
• वीएस नायपॉल त्रिनिदाद एवं टोबैगो/ब्रिटेन के नागरिक थे। उनके पूर्वज भारत से त्रिनिदाद एवं टोबैगो जाकर बस गए थे।

नोट - 97 वर्षीय जॉन बी गुडइनफ नोबेल पुरस्कार (किसी भी क्षेत्र में) जीतने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति हैं।
उन्हें 2019 में रसायन विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार मिला।

• अमेरिका की एलिनॉर ऑस्ट्रोम अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली पहली महिला है। उन्हें 2009 में अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार मिला।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments