आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

सितंबर 2020 में चर्चित सूचकांक, रिपोर्ट एवं सूची

चर्चित सूचकांक

सितंबर 2020 में चर्चित सूचकांक

वैश्विक नवाचार सूचकांक 2020
वैश्विक नवाचार सूचकांक में पहली बार भारत को शीर्ष 50 देशों में शामिल होने में सफलता मिली है।
• भारत को 131 देशों में 48वीं रैंकिंग मिली है। (2019 में 52वीं)
• यह सूचकांक विश्व बौद्धिक संपदा संगठन द्वारा तैयार किया गया है।
• मध्य और दक्षिण एशियाई देशों में भारत शीर्ष स्थान पर है।
• भारत नवाचार के क्षेत्र में दुनिया की तीसरी सबसे निम्न मध्यम आय वाली अर्थव्यवस्था बन गया है।
• स्वीटजरलैंड, स्वीडन, अमेरिका सूची में टॉप रैंकिंग पर है।

वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग  2021
2 सितंबर, 2020 को टाइम्स हायर एजुकेशन द्वारा ‘वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021’ जारी की गई।
इस सूची में 93 देशों के 1500 विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया है।
इस सूची में यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड (यू.के.) को शीर्ष स्थान प्राप्त हुआ।
इस वर्ष रैंकिंग में रिकॉर्ड 63 भारतीय विश्वविद्यालयों को शामिल किया गया है। लेकिन कोई भी शीर्ष 300 में स्थान नहीं पा सका।
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सांइस (IISc), बेंगलुरू (301-350 के समूह में) भारतीय विश्वविद्यालयों की सूची में शीर्ष पर है। 

बाल मृत्युदर के स्तर एवं रुझान की रिपोर्ट 2020
संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार भारत में बाल मृत्यु दर में साल 1990 से लेकर साल 2019 के बीच में काफी गिरावट आई है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मौत की संख्या साल 1990 में एक करोड़ 25 लाख से कम होकर साल 2019 में 52 लाख रह गई।

रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2019 में पांच साल से कम आयु के जिन बच्चों की मौत हुई, उनमें से आधे बच्चें नाइजीरिया, भारत, पाकिस्तान, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य और इथियोपिया के है।
केवल नाइजीरिया और भारत में करीब एक तिहाई बच्चों की मौत हुई।

द स्टेट ऑफ यंग चाइल्ड इन इंडिया
हाल ही उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने “The State of Young Child in India” टाइटल रिपोर्ट जारी की है।
इस रिपोर्ट को मोबाइल क्रेच संगठन द्वारा तैयार किया गया है। रिपोर्ट देश में स्वास्थ्य और पोषण पर तैयार की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 21% में से 6 साल से कम उम्र के 159 मिलियन बच्चे कुपोषित हैं, 36% बच्चे कम वजन का शिकार हैं और 38% पूर्ण टीकाकरण प्राप्त नहीं कर पाते हैं।
बाल पोषण, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा और अन्य सुरक्षा सेवाओं पर किए खर्च के विश्लेषण के अनुसार, भारत में 2018-2019 के दौरान प्रति बच्चे 1,723 रुपये खर्च किए गए हैं, जो पूरी योग्य आबादी को कवर करने के लिए अपर्याप्त है।

इसके अलावा रिपोर्ट में यंग चाइल्ड आउटकम इंडेक्स के आधार पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों और सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्यों की सूची भी जारी की गई है।

 सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 
 सबसे खराब प्रदर्शन
 केरल
 बिहार
 गोवा
 उत्तर प्रदेश
 त्रिपुरा
 झारखंड
 तमिलनाडु
 मध्य प्रदेश
 मिजोरम
 छत्तीसगढ़

यंग चाइल्ड आउटकम इंडेक्स में प्राथमिक विद्यालय स्तर पर बालकों की उपस्थिति, शिशु मृत्यु दर, स्टंटिंग जैसे संकेतकों की मदद से स्वास्थ्य, पोषण और ज्ञान-संबंधी विकास को मापा गया है।
सूचकांक के आधार पर, आठ राज्यों असम, मेघालय, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, उत्तर प्रदेश और बिहार ने देश में औसत से नीचे स्कोर किया है।
राज्यों की तुलना करने के लिए 2005-2006 और 2015-2016 को दो समय अवधि के लिए सूचकांक का तैयार किया गया था और समय के साथ परिवर्तन पर भी विचार किया जएगा।

स्टार्ट-अप इंडिया रैंकिंग 2019
उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) ने 11 सितंबर को स्टार्टअप इंडिया रैंकिंग 2019 जारी की।
• स्टार्टअप इंडिया के लिए मददगार माहौल तैयार करने में गुजरात का प्रदर्शन लगातार दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ रहा है।
• केंद्र शासित राज्यों में अंडमान-निकोबार का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ रहा है।
• इस रैंकिंग में 22 राज्य व 3 केंद्र शासित प्रदेशों ने भाग लिया था।
• यह रैंकिंग सात मानकों के आधार पर तैयार की गई -
संस्थागत सहायता, आसान नियम, सरकारी खरीद में छूट, इनक्यूबेशन मदद, सीड फंडिंग, वेंचर फंडिंग सुविधा एवं स्टार्टअप को लेकर जागरूकता।
• गौरतलब है कि भारत स्टार्टअप के लिए मददगार माहौल देने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है।
बेस्ट परफॉर्मर - गुजरात
टॉप परफॉर्मर - कर्नाटक और केरल
लीडर - बिहार, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान व चंडीगढ़

‘हेल्थ इन इंडिया’ रिपोर्ट
सितंबर 2020 में ‘राष्ट्रीय सांख्यिकी संगठन द्वारा ‘हेल्थ इन इंडिया’ रिपोर्ट का प्रकाशन किया गया है।

• यह रिपोर्ट स्वास्थ्य संबंधी पारिवारिक सामाजिक उपभोग पर राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण (जुलाई 2017-जून 2018) के 75वें दौर के आंकड़ों पर आधारित है।

• देश भर में, पाँच वर्ष से कम आयु के मात्र 59.2% बच्चे पूरी तरह से प्रतिरक्षित (Immunised) हैं। प्रति पांच में से दो बच्चों का प्रतिरक्षण टीकाकरण कार्यक्रम पूरा नहीं हो पता है।

• ‘हेल्थ इन इंडिया’ रिपोर्ट के अनुसार पूर्ण टीकाकरण की उच्चतम दर वाला राज्य है ? - मणिपुर (75%)
• नागालैंड में, केवल 12% बच्चों का पूर्ण टीकाकरण किया गया।
• पूर्ण टीकाकरण के अंतर्गत एक शिशु को जन्म के पहले वर्ष में आठ टीकों की खुराक दी जाती है।

विश्व आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक 2020
कनाडा के फ्रेजर इंस्टीट्यूट द्वारा "Global Economic Freedom Index 2020 Annual Report" में भारत को 105 वें स्थान पर रखा गया है, इसे भारत में नई दिल्ली स्थित थिंक टैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी के संयोजन में जारी किया गया है। यह विश्व आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक का 24 वां संस्करण है।
सूची में प्रथम दस देश
इस सूची में हांगकांग और सिंगापुर पहले और दूसरे स्थान पर है. सूची में प्रथम दस देशों में न्यूजीलैंड, स्विट्जरलैंड, अमेरिका, आस्ट्रेलिया, मारीशस, जॉर्जिया, कनाडा और आयरलैंड शामिल हैं।
• इस रैंकिंग में भारत सहित 162 अन्य देशों को शामिल किया गया है।
• वर्ष 2018 में जारी रैंकिंग में भारत 79वें स्थान पर था।
• कांगो, जिंबाब्वे, अल्जीरिया, ईरान, सूडान व वेनेजुएला सूचकांक में सबसे नीचे स्थान पर है।

लिविंग प्लैनेट रिपोर्ट 2020
10 सितंबर 2020 को अंतरराष्ट्रीय गैर-लाभकारी संगठन 'वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर' (WWF) द्वारा ‘लिविंग प्लैनेट रिपोर्ट 2020’ जारी की गई।
रिपोर्ट के अनुसार 1970 और 2016 के बीच वैश्विक वन्यजीव आबादी में 68% की कमी आई है।

पृथ्वी की बर्फ-मुक्त भूमि का 75% हिस्सा पहले ही काफी बदल चुका है, अधिकांश महासागर प्रदूषित हैं और इस अवधि में आर्द्रभूमि का 85% से अधिक क्षेत्र लुप्त हो गया है।
पिछले कई दशकों में जैव विविधता के नुकसान का सबसे महत्वपूर्ण प्रत्यक्ष कारण भू-उपयोग परिवर्तन रहा है, मुख्य रूप से प्राचीन आवासों को कृषि प्रणालियों में परिवर्तित कर दिया गया है।
वैश्विक स्तर पर भूमि उपयोग परिवर्तन के कारण सबसे अधिक जैव विविधता का नुकसान यूरोप और मध्य एशिया में 57.9%, उत्तरी अमेरिका में 52.5%, लैटिन अमेरिका और कैरेबियाई देशों में 51.2%, अफ्रीका में 45.9% और फिर एशिया में 43% हुआ है।
लिविंग प्लेनेट इंडेक्स के अनुसार, सबसे बड़ा वन्यजीव आबादी नुकसान लैटिन अमेरिका में 94% के खतरनाक स्तर पर हुआ है।
विश्व स्तर पर सबसे अधिक संकटग्रस्त जैव विविधता में से एक ताजे पानी की जैव विविधता है, जो महासागरों या जंगलों की तुलना में तेजी से घट रही है।

देश का पहला हैप्पीनेस इंडेक्स
• मिजोरम, पंजाब और अंडमान निकोबार 3 सबसे खुशनुमा राज्य है।
• छोटे राज्यों में मिजोरम, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के लोग सबसे ज्यादा खुश है।
• बड़े राज्यों में शीर्ष पर - पंजाब
• केंद्र शासित प्रदेशों में - अंडमान और निकोबार द्वीप समूह
• सबसे नीचे जम्मू-कश्मीर है।
• राजस्थान 31वें नंबर पर है।
• यह इंडेक्स मार्च 2020 से जुलाई 2020 के आंकड़ों पर आधारित 5 मानकों के आधार पर तैयार किया गया है -
1. आय-ग्रोथ - असम नंबर वन
2. पारिवारिक संबंध-दोस्ती - पंजाब नंबर वन
3. शारीरिक-मानसिक सेहत - लक्षद्वीप
4. परोपकार - लद्दाख
5. धर्म या आध्यात्मिक जुड़ाव

स्मार्ट सिटी इंडेक्स 2020
इंस्टीट्यूट फॉर मैनेजमेंट डेवलपमेंट ने सिंगापुर यूनिवर्सिटी फॉर टेक्नोलॉजी एंड डिज़ाइन (SUTD) के साथ मिलकर स्मार्ट सिटी इंडेक्स 2020 जारी किया है। स्मार्ट सिटी इंडेक्स 2020 में कुल 109 शहरों का सर्वेक्षण किया गया है।
• सूचकांक में सिंगापुर शीर्ष स्थान पर है, उसके बाद हेलसिंकी और ज्यूरिख शीर्ष तीन स्मार्ट शहरों के रूप में शामिल हैं। स्मार्ट सिटी इंडेक्स 2020 में, हैदराबाद भारतीय शहरों में शीर्ष स्थान पर रहा, जिसे 85 वें स्थान पर रखा गया है।
• नई दिल्ली (86), मुंबई (93), बेंगलुरु (95)

टाइम मैगज़ीन ने टाइम 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची 2020 जारी की है। भारतीय प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी इस सूची में एकमात्र राजनेता हैं।

वैश्विक जोखिम सूचकांक 2020 के अनुसार, 181 देशों की सूची में भारत को 89 वें स्थान पर रखा गया है।
• पहला स्थान - वनुआटू
• 181वां स्थान - कतर

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments