आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

एंटीट्रस्ट कानून क्या है ? ।। चर्चा में क्यों ?

www.devedunotes.com


एंटीट्रस्ट कानून क्या है ?

एंटीट्रस्ट कानून व्यवसाय में आर्थिक शक्ति के वितरण की निगरानी करते हैं। यह अमेरिका में संघीय और राज्य सरकार के कानूनों का एक संग्रह है जो यह सुनिश्चित करते हैं कि व्यवसाय के क्षेत्र में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा (कॉम्पिटीशन) बनी रहे ताकि अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिले।

नोट - एंटीट्रस्ट में ट्रस्ट शब्द का अर्थ है - बड़े बिज़नस ग्रुप।  यह कानून अमेरिकी सरकार का एक मॉनिटर है जो सुनिश्चित करता है कि बड़ी कंपनियां कहीं फ्री मार्केट के नियम तो नहीं तोड़ रही। 

एंटीट्रस्ट कानून सभी औद्योगिक इकाई और सेक्टर (जैसे - निर्माण परिवहन विपणन और मार्केटिंग) के हर स्तर पर लागू होते हैं।

एंटीट्रस्ट कानून व्यापार को प्रभावित करने वाली कई विधियों को प्रतिबंधित करते हैं। व्यापार में व्याप्त यह अवैध विधियां (जैसे - मूल्य निर्धारण की साजिशें, कॉर्पोरेट विलय और एकाधिकार शक्ति) व्यापार को प्रभावित करती है।
इसे लेकर मुख्य कानून 1890 का शर्मन अधिनियम, 1914 का क्लेटन अधिनियम और 1914 का संघीय व्यापार आयोग अधिनियम है।

अमेरिका में पिछले काफी समय से ऑनलाइन कंपनियों (जैसे - गूगल, फेसबुक, अमेजन, एपल आदि) पर इस कानून के उल्लंघन के आरोप लगते रहे है।

एंटीट्रस्ट कानून चर्चा में क्यों ?

हाल ही ऑनलाइन व्यवसायिक जगत की चार दिग्गज कंपनियां गूगल, फेसबुक, अमेजन और एपल एंटीट्रस्ट कानून के उल्लंघन के आरोपों का सामना कर रही है।

हाल ही 29 जुलाई को चारों कंपनियों के सीईओ की अमेरिकी संसद (कांग्रेस) की 15 सदस्यों वाली एक एंटीट्रस्ट उप समिति के समक्ष पेशी हुई। जहां इन्होंने अपनी-2 कंपनियों के कामकाज के तौर-तरीकों के बारे में जानकारी दी।

इन कंपनियों पर निम्नलिखित आरोप हैं -

गूगल पर आरोप
यह विश्व स्वास्थ्य संगठन को किसी भी अन्य पक्ष के मुकाबले सर्वाधिक महत्व देता है।
• गूगल चुपचाप डब्ल्यूएचओ और चीन का साथ देता रहा है (कोरोनावायरस वायरस की बात छुपाई)
• यह चुनाव में हस्तक्षेप करता है। 2016 में गूगल ने क्लिंटन की मदद करने की कोशिश की थी। इस बार भी चुनाव में गूगल विपक्षी दल के जो बिडेन का साथ दे सकता है।

• गूगल के सर्च इंजन का इस्तेमाल कर यूजर अन्य वेबसाइट्स के आईडिया और जानकारियों को जुटा कर इसका मुनाफा बढ़ाते हैं।
• प्रतिद्वंदी पक्षों के डाटा का दुरुपयोग का भी आरोप है।
• डाटा चुराने का आरोप

अमेजन पर आरोप
• प्रतिद्वंदी पक्षों के डाटा का दुरुपयोग का आरोप है। (चुनाव में हस्तक्षेप)
• ऑनलाइन पेमेंट पर सवाल
• अरबों डॉलर का नुकसान उठाकर छोटे विक्रेताओं को बाजार से बाहर करते हैं। (एकाधिकार शक्ति)

फेसबुक पर आरोप
• अमेरिका की कंपनी होते हुए भी अमेरिकी मूल्यों को बढ़ावा नहीं देती।
• इंस्टाग्राम का विलय क्यों किया गया क्या इसके जरिए लोगों के निजी जीवन पर डाका डाला जा रहा है ?
• करीब 6.5 करोड़ फेक अकाउंट पर कोई कार्रवाई अब तक क्यों नहीं की गई ?

एपल पर आरोप
• अमेरिकी सुरक्षा के लिए काम करना बंद कर दिया है।
• एपल ऐप स्टोर डेवलपर्स के साथ मिलकर बाजार में मनमानी करता है।

 कंपनी
 सीईओ
 अमेजन
 जेफ बेज़ोस
 गूगल
 सुंदर पिचाई
 फेसबुक
 मार्क जकरबर्ग
 एपल
 टिम कुक



भारत में आरोप
• अमेजन और फ्लिपकार्ट पर अमेरिकी दिग्गजों को छूट के लिए अरबों डॉलर का नुकसान उठाकर छोटे विक्रेताओं के साथ भेदभाव करने के लिए भारतीय कानूनों के उल्लंघन का आरोप है।
• गूगल पर आरोप है कि भारत में अपने android.app स्टोर के अंदर अपने गूगल पे एप को अधिक प्रमुखता से दिखाता है।
• फेसबुक और व्हाट्सएप पर भी ऑनलाइन पेमेंट से संबंधित आरोप है।


भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई)

CCI - Competition commission of India.
• यह भारत की एक विनियामक संस्था है।
• 13 जनवरी 2003 को भारतीय संसद द्वारा प्रतिस्पर्धा अधिनियम 2002 को लागू किया गया।
• 14 अक्टूबर 2003 को केंद्र सरकार द्वारा भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग की स्थापना की गई। इसके बाद प्रतिस्पर्धा (संशोधन) अधिनियम 2007 के द्वारा इसमें संशोधन किया गया।
• अधिनियम का उद्देश्य स्वच्छ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देना है ताकि बाजार को उपभोक्ताओं के हित का साधन बनाया जा सके।
• आयोग का कर्तव्य अवैध व्यापारिक प्रथाओं को समाप्त करना, प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देना और उसे सतत रूप से बनाए रखना, उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करना और भारतीय बाजारों में व्यापार की स्वतंत्रता सुनिश्चित करना है।

स्त्रोत - राजस्थान पत्रिका

• हाल ही अगस्त 2020 में एपिक गेम्स कंपनी ने एपल और गूगल पर अपने एप स्टोर और प्ले स्टोर के माध्यम से होने वाली दूसरे डेवलपर्स की आय का 30% कमीशन के तौर पर रखने के विरोध में एंटीट्रस्ट कानून के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए मुकदमा दायर कर दिया है।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments