आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें PDF के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़े।

भारत का इतिहास ।। सामान्य जानकारी

भारत का इतिहास





भारत का इतिहास


ई. पू. (Before Christ)
ईसा मसीह के जन्म से पहले का काल।
BC के स्थान पर कभी-कभी BCE (Before Common Era) भी लिखा होता हैं।

ईस्वी (Anno Domini)
एक लैटिन शब्द है, जिसका अर्थ है - ईसा मसीह के जन्म के वर्ष से।
AD के स्थान पर कभी-कभी CE (Common Era) भी लिखा होता हैं।


प्रमुख संवत

विक्रम संवत
• 57 ईसा पूर्व उज्जैन के राजा विक्रमादित्य ने चलाया।
• प्रथम दिन - चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा (एकम)
इस दिन को नया संवत भी कहते हैं।
• अंतिम दिन - चैत्र अमावस्या।

ईसवी संवत/ ग्रेगेरियन कैलेंडर
• 1 ईस्वी में चार्ल्स तृतीय (जर्मनी) ने चलाया।
• प्रथम दिन - 1 जनवरी
• अंतिम दिन - 31 दिसंबर
नोट - यह 1582 में बनकर तैयार हुआ तथा 13वें पोप ग्रेगोरी ने प्रचलित किया।
वर्तमान में संपूर्ण विश्व में उपयोग में लिया जा रहा है।

शक संवत
• 78 ईस्वी में कुषाण शासक कनिष्क ने चलाया।
• प्रथम दिन - चैत्र कृष्ण पक्ष की एकम
• अंतिम दिन - फाल्गुन पूर्णिमा

नोट - 22 मार्च 1957 को भारत का राष्ट्रीय पंचांग अपनाया गया जिसमें ग्रेगेरियन कैलेंडर और शक संवत को शामिल किया गया।

गुप्त संवत - 319 ईस्वी में चंद्रगुप्त प्रथम ने चलाया।

हर्ष संवत - 606 ईस्वी में हर्षवर्धन ने चलाया।

हिजरी संवत - 622 ईस्वी में मोहम्मद साहब मक्का से मदीना चले गए। इस घटना को हिजरत कहते हैं तथा हिजरी संवत आरंभ हो गया।

इलाही संवत - 1582 ईस्वी में मुगल शासक अकबर द्वारा चलाया गया।

प्रश्न. वर्तमान (2020) में शक संवत और विक्रमी संवत में कौनसा वर्ष चल रहा है ?
विक्रमी संवत - 2020+57 = 2077
शक संवत - 2020 - 78 = 1942


भारत का इतिहास

इतिहास - इति (ऐसा) + ह (हुआ) + आस (निश्चित रूप से)

अतीत की घटनाओं का कालक्रम के अनुसार वैज्ञानिक दृष्टिकोण से समग्रता या पूर्णता में अध्ययन इतिहास कहलाता है।

• हेरोडोटस को इतिहास का जनक कहा जाता है। वे यूनान के प्रथम इतिहासकार एवं भूगोलवेत्ता थे।

• भारत के इतिहास का जनक वेदव्यास है, जिन्होंने महाभारत ग्रंथ की रचना की।

• एशिया महाद्वीप के उत्तरी गोलार्ध्द तथा पूर्वी देशांतर में चतुष्कोणीय आकृति वाला भारत देश स्थित है।

• भारत का प्राचीन नाम भारतवर्ष है।
पाणिनि के अष्टाध्यायी में इसे भारतवर्ष कहा गया है।

• पौराणिक कथाओं के अनुसार पुरू वंश के राजा भरत (दुष्यंत एवं शकुंतला के पुत्र) के नाम पर हमारे देश का नाम भारतवर्ष पड़ा।

ऋग्वैदिक काल के प्रमुख जन भरत के नाम पर भारतवर्ष नाम पड़ा।

जैन ग्रंथों के अनुसार प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव के पुत्र भरत के नाम पर भारत वर्ष नाम पड़ा।

यूनानी इतिहासकारों ने इसे इंडिया कहा जिसकी उत्पत्ति Inde शब्द से हुई है।

• जम्बू वृक्ष के कारण अशोक के अभिलेखों में इसे जंबूद्वीप कहा गया है।

• भागवत पुराण में इसे अजनाभ वर्ष कहा गया है।

• अरबी, फारसी या मध्यकालीन इतिहासकारों द्वारा इसे हिंद या हिंदुस्तान कहा गया।
हिंदू शब्द की उत्पत्ति सिंधु शब्द से हुई।

• चीनियों ने इसे यिन-तू कहा है। (Yin-tu)

• भारत की खोज 1498 ईस्वी को वास्कोडिगामा ने की जो कि यूरोप महाद्वीप के पुर्तगाल देश का निवासी था।
वास्कोडिगामा का मार्गदर्शन अब्दुल मुनीक ने किया।
वास्कोडिगामा भारत में सर्वप्रथम कालीकट (केरल) पहुंचा जहां के राजा जमेरिन ने उसका भव्य स्वागत किया।

इतिहास का जनक किसे कहते है ? - हेरोडोटस

इतिहास के 4 अंग माने जाते हैं:- 
1. काल (समय)  2. व्यक्ति  3. स्थान  4. घटना

अध्ययन की सुविधानुसार भारतीय इतिहास को तीन भागों में विभाजित किया जाता है -

प्राचीन भारत

2600BC - 712 या 1192AD 
मध्यकालीन भारत
1192AD - 1707 या 1757AD
आधुनिक भारत
1757AD - 1947 या 1965AD
 
नोट:- सर्वप्रथम इतिहासकार मील ने भारतीय इतिहास को तीन भागों में विभाजित किया था।

नोट:- इतिहास के चार आयाम (राजनीतिक, धार्मिक, आर्थिक और सामाजिक) है।
राजनीतिक, धार्मिक, आर्थिक और सामाजिक परिवर्तन होने पर इतिहास का काल बदल जाता है।

टॉपिक
 काल
पाषाणकाल
 
सिंधु घाटी सभ्यता
 2600BC - 1900BC
अंधकारमय युग
 1900BC - 1500BC
ऋग्वैदिक काल
 1500BC - 1000BC
उत्तर वैदिक काल
 1500BC -   600BC
महाजनपद काल
 600BC - 322BC
मौर्य काल
 322BC - 185BC
मौर्योत्तर काल
 185BC - 319AD
गुप्त काल
 319AD - 550AD
हर्षवर्धन
 606AD - 647AD
राजपूत/पूर्व मध्यकाल
 750AD - 1000AD
सल्तनत काल
 1192AD - 1526AD
मुगल काल
 1526AD - 1707AD

आधुनिक भारत

 1707AD - .....
 
अगला टॉपिक पढ़ें 👉 भारत आने वाले विदेशी यात्री

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments