आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

विश्व एमएसएमई दिवस 27 जून



विश्व एमएसएमई दिवस

MSME = Micro, Small and Medium Enterprises. (सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम)

प्रतिवर्ष 27 जून को विश्व एमएसएमई दिवस मनाया जाता है।
संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 6 अप्रैल, 2017 को 27 जून को विश्व एमएसएमई दिवस के रूप में घोषित किया था।
संयुक्त राष्ट्र द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के स्थानीय और वैश्विक स्तर पर समावेशी व सतत विकास में योगदान के लिए इस दिवस की स्थापना की गई थी।

विश्व एमएसएमई दिवस 2020 की ग्लोबल थीम 'एमएसएमई: सामाजिक आवश्यकताओं का प्रथम उत्तरदाता' (MSMEs: First responders to societal needs) है।

हाल ही एमएसएमई की परिभाषा बदल दी गई है।

Springboard Academy Jaipur, DevEduNotes

एमएसएमई अधिनियम 2006 में एमएसएमई की परिभाषा को परिवर्तित किया गया है।
विनिर्माण क्षेत्रऔर सेवा क्षेत्र दोनों के लिए एमएसएमई की परिभाषा समान होगी।
पहली बार निवेश के अलावा टर्नओवर को भी शामिल किया गया है।

सूक्ष्म उद्योग - 1 करोड़ रुपए तक के निवेश और 5 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले।
लघु उद्योग - 10 करोड़ रुपए तक के निवेश और 50 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले।
मध्यम उद्योग - 20 करोड़ रुपए तक के निवेश और 100 करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले।

नोट - देश की जीडीपी में 29% योगदान एमएसएमई का है।
देश के निर्यात में 48% योगदान एमएसएमई का है।


हाल ही आत्मनिर्भर भारत अभियान में एमएसएमई के लिए निम्न घोषणाएं की गई -


1. 3 लाख करोड़ रुपये का गारंटी मुक्त कर्ज एमएसएमई को। (Collateral-free loan)
• इस स्कीम के तहत केवल बकाया ऋण वाले ही एमएसएमई को ऋण मिलेगा।
• एमएसएमई द्वारा बकाया ऋण के 20% तक वापस ऋण लिया जा सकता है।
• इस प्रावधान के तहत 45 लाख एमएसएमई यूनिट को फायदा होगा।
• एमएसएमई को गारंटी फीस, गारंटी या गिरवी रखने की जरूरत नहीं होगी।
• सरकार 100% गारंटी कवर देगी।
• इस योजना के तहत 4 साल के लिए कर्ज दिया जाएगा जिसमें पहले 12 महीने तक मूलधन भुगतान करने से भी छूट रहेगी। (12 महीने का मोराटोरियम)
• यह ऋण बैंक और एनबीएफसी से लिया जा सकेगा।

• इस स्कीम के तहत ब्याज की दर -
बैंक = एमसीएलआर से 1% अधिक तक
एनबीएफसी = 14% तक
• इस योजना का लाभ 31 अक्टूबर 2020 तक लिया जा सकता है।
• 100 करोड रुपए तक के कारोबार करने वाले होंगे पात्र।
• 25 करोड रुपए की देनदारी (Outstanding) वाले एमएसएमई भी ले सकेंगे कर्ज।

2. संकटग्रस्त एमएसएमई के लिए 20,000 करोड़ रुपए
• एनपीए हो चुकी या कर्ज नहीं चुका पा रही एमएसएमई को कर्ज मिलेगा।
• सरकार सीजीटीएमएसई को 4,000 करोड रुपए का सहयोग करेगी। जिससे सीजीटीएमएसई, एमएसएमई को आंशिक क्रेडिट गारंटी सहयोग करेगी। (ऋण का लगभग 20%)
• इस प्रावधान से 2 लाख एमएसएमई को फायदा होने का अनुमान है।

3. एमएसएमई के विस्तार के लिए फंड ऑफ फंड्स बनाया जाएगा।
• इसके लिए इक्विटी के माध्यम से 50,000 करोड़ रुपए का  निवेश होगा। (समता अंश पूंजी के माध्यम से)
• इसके लिए 10,000 करोड़ रुपए का कॉर्पस फंड बनेगा।
• एक मदर फंड और कई डॉटर फंड बनाए जाएंगे।
कंपनियां बैंक से कैश क्रेडिट और डेट बांड के जरिए पैसे ले सकेंगी।
• यह फंड बेहतर काम कर रही एमएसएमई के विस्तार में सहायक होगा।
• एमएसएमई को शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

राजस्थान में एमएसएमई

26 जून 2020 को ‘राजस्थान एमएसएमई समिट‘ के चौथे संस्करण का वर्चुअल आयोजन किया गया है।
इस समिट की थीम ‘आत्मनिर्भर राजस्थान के लिए पुनः सशक्त एमएसएमईज़‘ रखी गई थी।

राजस्थान के उद्योगमंत्री श्री परसादी लाल मीणा के अनुसार एमएसएमई के लिए किए गए प्रयास अग्रलिखित है -

 • एमएसएमई नीति 2015
 • एमएसएमई एक्ट, जिसमें 3 साल तक उद्योगपति को किसी तरह की अनुमति लेने की जरूरत नहीं है। इसमें राज उद्योग मित्र पोर्टल से बेहद आसानी से स्वीकृति लेकर काम शुरू किया जा सकता है।
इस पोर्टल पर आवेदन पर केवल 2 मिनट में उद्यम लगाने की स्वीकृति की व्यवस्था है।
इस पोर्टल के माध्यम से लगभग 5000 उद्यमी सरकार की इस सुविधा का लाभ उठा चुके है।

• मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन रोजगार योजना के लिए 5 साल में 250 करोड़ रूपयों का बजट रखा गया है। इसके अंतर्गत उद्योगपतियों को सब्सिडी भी दी जायेगी।

• राजस्थान के उद्योगपति राज्य में ही उद्योग लगाये इसके लिये राजस्थान इन्वेस्टमेंट प्रमोशन स्कीम के अंतर्गत उद्योगपतियों को 5 से 7 वर्ष की अवधि के लिये एसजीएसटी में 75 प्रतिशत से 100 प्रतिशत की छूट दी जा रही है।

• प्रत्येक क्षेत्र में उद्यमिता को प्रोत्साहित करने के लिए राजस्थान इनोवेशन विजन (RajIV) की शुरुआत की गई है।

नोट - राजस्थान में एमएसएमई कृषि के बाद दूसरा बड़ा रोजगार प्रदाता क्षेत्र है।
प्रतिवर्ष राजस्थान में विश्वकर्मा दिवस को राजस्थान एमएसएमई दिवस के रूप में मनाया जाता है।
इस अवसर पर राज्य सरकार द्वारा राजस्थान उद्योग रत्न पुरस्कार प्रदान किये जाते हैं।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments