आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

राजस्थान सरकार की योजनाएं 2016

राजस्थान करंट अफेयर्स



राजस्थान सरकार की योजनाएं 2016

अन्नपूर्णा रसोई योजना
इस योजना की शुरुआत 15 दिसंबर 2016 को की गई। इस योजना के तहत विशेष तौर पर श्रमिक, रिक्शावाला, ऑटो वाला, कर्मचारी, विद्यार्थी, कामकाजी महिलाओं, बुजुर्ग व अन्य सहायक व्यक्तियों को मात्र ₹5 प्रति प्लेट में नाश्ता तथा ₹8 प्रति प्लेट में दोपहर का भोजन और रात्रि का भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। योजना का प्रथम चरण 12 जिलों जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, भरतपुर, उदयपुर, अजमेर, कोटा, झालावाड़, प्रतापगढ़, बारां, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, में आयोजित किया गया।
इस योजना के दूसरे चरण में 191 शहरी निकायों में 500 अन्नपूर्णा रसोई वैनों के माध्यम से नाश्ता उपलब्ध कराया जाएगा।

राजस्थान भामाशाह पशु बीमा योजना
राज्य के तत्कालीन कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने 23 जुलाई 2016 को जामडोली (जयपुर) से भामाशाह पशु बीमा योजना का शुभारंभ किया। इसके तहत भामाशाह कार्डधारक पशुपालकों के पशुओं का बीमा किया जाएगा। कुल प्रीमियम राशि में सामान्य श्रेणी के पशुपालकों के लिए 50% एवं एस.टी./एस.सी./बी.पी.एल. श्रेणी के पशुपालकों के लिए 70% अनुदान राशि राज्य सरकार प्रदान करेगी।

फसल बीमा योजना
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 15 जुलाई 2016 से प्रदेश में लागू हो गई। इससे करीब 25 लाख किसानों को फायदा होगा।
किसानों को बीमा कराने पर खरीफ मौसम हेतु बीमित राशि का 2 प्रतिशत, रबी मौसम हेतु 1.5 प्रतिशत तथा उद्यानिकी एवं वाणिज्यिक फसलों हेतु 5 प्रतिशत प्रीमियम राशि देनी होगी। शेष प्रीमियम राशि 50 प्रतिशत भारत सरकार एवं 50 प्रतिशत राज्‍य सरकार द्वारा वहन की जायेगी।

राजश्री योजना
बेटियों के जन्म को प्रोत्साहित करने, उन्हें शिक्षित व सशक्त बनाने के लिए सरकार ने 1 जून 2016 से मुख्यमंत्री राजश्री योजना शुरू की। इस योजना के अंतर्गत यदि बेटी का जन्म किसी सरकारी अस्पताल या जननी सुरक्षा योजना में रजिस्टर्ड निजी संस्थान में हुआ हो तो ऐसी माताएं इस योजना का लाभ उठा सकती है। (लाभार्थी का भामाशाह कार्ड आवश्यक है) यह योजना मुख्यमंत्री शुभ लक्ष्मी योजना की जगह शुरू की गई है।
इस योजना के अंतर्गत कुल 50000 रूपये 6 किश्तो में दिये जाएंगे जो इस प्रकार है-
बेटी के जन्म के समय 2500 रूपये
एक वर्ष का टीकाकरण होने पर 2500 रूपये
पहली कक्षा में प्रवेश लेने पर 4000 रूपये
कक्षा 6 में प्रवेश लेने पर 5000 रूपये
कक्षा 10 में प्रवेश लेने पर 11000 रूपये
कक्षा 12 उत्तर्ण करने पर 25000 रूपये
अंतिम 4 किस्तें मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रदान की जा रही है।

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना
27 जनवरी 2016 से मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान का झालावाड़ जिले के गर्दनखेड़ी गांव से शुभारंभ किया गया। बारिश के पानी की एक-एक बूंद को सहेजकर गांवों को जल आत्मनिर्भरता की ओर बढा़ना इस अभियान का मूल उद्देश्य है।

पहला चरण - अभियान के पहले चरण (27 जनवरी 2016 से 30 जून 2016 तक) प्रदेश में 295 पंचायत समितियों के 3529 गांवों का चयन किया गया। अभियान के पहले चरण में 1270 करोड़ रुपये की लागत से करीब 94000 निर्माण कार्य पूरे किए गए है।

दूसरा चरण - 9 दिसंबर 2016 से शुरू हुए दूसरे चरण में 4000 नए गांवों का चयन किया गया व 66 शहरों (प्रत्येक जिले से दो) को भी अभियान में शामिल किया गया। इस चरण में 2100 करोड रुपए की लागत से जल संरचनाओं में सुधार कार्य कराए गए है।

तीसरा चरण - तीसरे चरण का शुभारंभ 9 दिसंबर 2017 को किया गया है। इसमें 4240 गांवों में काम किया जाएगा। इस अभियान के तहत आगामी वर्षों में राज्य के 21000 गांवों को लाभान्वित कर आत्मनिर्भर बनाने का लक्ष्य रखा है।

चौथा चरण-चौथे चरण का शुभारंभ तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने जयपुर में 3 अक्टूबर 2018 को किया।
प्रदेश के इस महत्वपूर्ण अभियान को दक्षिण अफ्रीका ने भी अपने यहां आरंभ किया।

पहचान पोर्टल- विवाह पंजीयन का ई-मित्र केन्द्रो पर 'पहचान' पोर्टल द्वारा ऑनलाइन शुभारम्भ 21 मार्च, 2016 को किया गया।

अम्बेडकर संबल योजना
तत्कालीन मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने अम्बेडकर की 125वीं जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल, 2016 को मूंडला (जमवारामगढ़) में आयोजित समारोह में दलित समाज को आर्थिक एवं सामाजिक रूप से सशक्त बनाने के उद्देश्य से अम्बेडकर संबल योजना शुरू करने की घोषणा की।
इस योजना के तहत दलित युवाओं को कौशल, आजीविका, नवाचार, उद्यमिता एवं उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्रोत्साहन देने के लिए अलग-अलग 6 योजनाएँ प्रारम्भ की गई।

1.अम्बेडकर कौशल प्रशिक्षण केन्द्र   2.अम्बेडकर स्टार्टअप योजना

3. अम्बेडकरफैलोशिप योजना   

4. अम्बेडकरअंतर्राष्ट्रीय छात्रवृति योजना (25 लाख रूपये तक)

5. अम्बेडकरइलेक्ट्रॉनिक इन्फार्मेशन लाइब्रेरी नेटवर्क

6. डाॅ. बी. आर. अम्बेडकर शोध चेयर

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments