आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

राजस्थान सरकार की योजनाएं 2015

राजस्थान करंट अफेयर्स



राजस्थान सरकार की योजनाएं 2015

न्याय आपके द्वार
प्रदेश के किसानों एवं ग्रामीणों के अपने स्वामित्व, खातेदारी अधिकार तथा उत्तराधिकार के झगड़ों और विवादों के विभिन्न राजस्व न्यायालय में वर्षों से लंबित चल रहे मुकदमों और उन से आमजन को हो रही समय और पैसे की बर्बादी से छुटकारा दिलाने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की पहल पर वर्ष 2015 में प्रत्येक वर्ष ग्रीष्म ऋतु में राजस्व लोक अदालत अभियान न्याय आपके द्वार कार्यक्रम के संचालन की घोषणा की गई है।
पहला चरण- न्याय आपके द्वार के पहले चरण में वर्ष 2015 में 16 हजार शिविरों में 21 लाख 43 हजार से अधिक राजस्व मामलों का निस्तारण किया गया एवं 164 ग्राम पंचायतों को राजस्व वाद से मुक्त किया गया।

दूसरा चरण- अभियान का द्वितीय चरण 9 मई 2016 से आरंभ किया गया जिसके अंतर्गत राज्य भर में 12387 शिविर लगाए गए जिसमें 48 लाख 46 हजार 54 मामलों का निस्तारण कर 431 ग्राम पंचायतों को राजस्व वाद से मुक्त घोषित किया गया।

तीसरा चरण- अभियान के तीसरे चरण का आयोजन 8 मई 2017 से 15 जुलाई 2017 तक किया गया।

चौथा चरण- अभियान के चौथे चरण का आयोजन 1 मई 2018 से 30 जून 2018 तक किया गया।

अन्नपूर्णा भण्डार योजना
इस योजना का मुख्य उद्देश्य सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत सार्वजनिक-निजी सहभागिता के माध्यम से गाँव-गाँव तक लोगों को ब्रांडेड उत्पाद उपलब्ध कराना है।
31 अक्टूबर, 2015 को जयपुर जिले के भम्भौरी गाँव से इस योजना की शुरूआत की गई।
राजस्थान अन्नपूर्णा भंडार योजना को लागू करने वाला देश का प्रथम राज्य है।
इस योजना में 6720 से अधिक उचित मूल्य (राशन ) की दुकानों को अन्नपूर्णा भण्डार के
रूप में विकसित किया गया।

लाडोरानी योजना
बाल लिंगानुपात को संतुलित करने के लिए जिला प्रशासन नागौर की ओर से 11 फरवरी 2015 को जिला स्तर पर शुरू लाडो रानी' योजना अब पूरे राज्य में लागू किये जाने की तैयारी की जा रही हैं।

जीवनधारा योजना
राज्य सरकार ने 31 मार्च, 2015 को जयपुर में 'महिला दूध बैंक जीवनधारा योजना' की शुरूआत की। इसके तहत एक दूध बैंक का शुभारम्भ नार्वे सरकार तथा जे.के. लॉन अस्पताल ने साथ मिलकर किया।
यह बैंक स्तनपान कराने वाली माताओं द्वारा दान किए गए दूध को जमा करेगा जिसका इस्तेमाल दूध से वंचित शिशुओं के लिए किया जा सकेगा।
दान देने की इच्छुक माताओं से मिला यह दूध शिशुओं को मुफ्त में दिया जायेगा।
इस योजना के तहत प्रथम महिला दूध बैंक कोलकता में खोला गया था और जयपुर इस श्रृंखला का दूसरा दूध केंद्र है हालांकि राज्य में पहले मदर मिल्क बैंक का शुभारंभ अप्रैल 2013 में एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) द्वारा उदयपुर के एक सरकारी अस्तपाल में शुरू किया गया था।

राजस्थान में जीवनधारा योजना का संबंध है ?
1. सिंचाई कुओं का निर्माण
2. गरीबों के लिए बीमा योजना
3. चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराना
4. ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल उपलब्ध कराना

एलईडी होम लाइंटिग योजना - बिजली बचत योजना का प्रारम्भ तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने 4 मई, 2015 को किया।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना
इस योजना का शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 19 फरवरी 2015 को सूरतगढ़ (श्रीगंगानगर, राजस्थान) से किया।
इस योजना का लक्ष्‍य देश के किसानों को हर दो साल में मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड जारी करना है, ताकि खाद इत्‍यादि के बारे में मिट्टी पोषण कमियों को दूर किया जा सके।
इस योजना की थीम है: स्वस्थ धरा, खेत हरा।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 जनवरी, 2015 को हरियाणा के पानीपत से इस अभियान की शुरूआत की।
इस अभियान का उद्देश्य जेण्डर (लिंग) असमानता का निवारण,बालिका की उत्तरजिवित्ता और संरक्षण सुनिश्चित करना तथा बालिका की शिक्षा सुनिश्चित करना है।

नन्द घर योजना
आँगनबाड़ी केन्द्रों को आधुनिक बनाने व सामुदायिक सहयोग को सुनिश्चित करने के लिए नन्द घर योजना बनाई गई है।
नन्द घर योजना के अंतर्गत दानदाता/स्वयं सेवी संगठन/ कॉरपोरेटस के द्वारा आँगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लिया जाता है।
नन्दघर योजना का औपचारिक शुभारम्भ 11 मई, 2015 को पाली जिले से किया गया।

अक्षदा कार्यक्रम
2 मार्च 2015 को टाटा समूह तथा राजस्थान सरकार के बीच माता एवं शिशु के स्वास्थ्य में सुधार की इस योजना के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर हुए।

अपडेट एवं सुधार के लिए 
www.devedunotes.com देखते रहे।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments