आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

राजस्थान सरकार की योजनाएं 2014

राजस्थान करंट अफेयर्स



राजस्थान सरकार की योजनाएं 2014

भामाशाह योजना
राजस्थान सरकार ने महिला सशक्तिकरण और सरकारी योजनाओं का लाभ सीधे और पारदर्शी तरीके से जन - जन तक पहुँचाने के लिए 15 अगस्त, 2014 से भामाशाह योजना की शुरूआत की।
इस योजना के तहत महिलाओं को परिवार की मुखिया बनाकर परिवार के बैंक खाते उनके नाम पर खोले गए है।
परिवार को मिलने वाले सभी सरकारी नकद लाभ सरकार सीधे इसी खाते में दे रही है एवं इन पैसों को निकलवाने के लिए लाभार्थियों को रूपे कार्ड की सुविधा प्रदान की गई है।
राजस्थान देश का पहला राज्य है जहाँ यह योजना चलाई गई है।

बालिका आत्मरक्षा कौशल योजना
इस योजना के माध्यम से छात्राओं को आत्मरक्षा के तरीकों का प्रशिक्षण देते हुए उनमें प्रतिकूल परिस्थितियों का मुकाबला करने का हुनर पैदा करना मुख्य उद्देश्य है। इस योजना का क्रियान्वयन बांसवाड़ा जिले में जनवरी 2014 से अगस्त 2014 तक किया गया।

आजीविका कौशल योजना
तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने 17 जुलाई, 2014 को जयपुर से प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर सृजित करने के लिए देश के पहले और सबसे बड़े महत्वाकांक्षी 'आजीविका स्किल्स प्रोजेक्ट' का  शुभारम्भ किया।
भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय एवं राजस्थान सरकार के संयुक्त तत्वावधान में यह योजना क्रियान्वित की जा रही है।

श्री योजना
गाँवों के विकास के लिए राजस्थान सरकार द्वारा 1 अप्रैल 2014 से भरतपुर संभाग से प्रारंभ ग्रामीण विकास की योजना जिसमें 5000 तक की जनसंख्या वाले गाँवों को शामिल किया जाएगा। इसमें प्रदेश के प्रत्येक जिलें के पाँच-पाँच गाँवों का चयन किया जायेगा।

SHREE योजना शब्द का विस्तार -

S (सेनिटेशन)  - ग्रामीण स्वच्छता, शौचालय निर्माण, तरल एवं ठोस कचरा प्रबंधन।

H(हेल्थ)- स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता।

R(रूरल कनेक्टिविटी)- गाँव की आंतरिक सड़क, नाली निर्माण और अप्रोच रोड़।

E(एजुकेशन)- शिक्षा, चिकित्सा की सुविधाएँ।

E(एनर्जी)-ग्रामीण क्षेत्रों में रोशनी की व्यवस्था।

M POWER योजना
इस योजना का पूरा नाम मिटिगेटिंग पॉवर्टी इन वेस्टर्न राजस्थान है।
यह योजना इंटरनेशनल फंड फॉर एग्रीकल्चर डेवलपमेंट (IFAD) के सहयोग से दिसम्बर 2008 से दिसम्बर 2014 तक 6 वर्ष की अवधि हेतु चलाई गई थी।
यह योजना पश्चिमी राजस्थान के 6 जिलों के 7 ब्लॉक में चलाई गई, जिसमें बाप (जोधपुर), सांकड़ा
(जैसलमेर), बायतु (बाड़मेर), बाली (पाली), आबूरोड़ (सिरोही) और सांचौर व चितलवाना (जालौर) शामिल थे। इस योजना का मुख्य उद्देश्य लक्षित परिवारों में गरीबी उन्मूलन करना है।

स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण)
2 अक्टूबर ,2014 से इसे स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) नाम दिया गया। इस कार्यक्रम के तहत 'स्वच्छ भारत -स्वच्छ राजस्थान अभियान' का प्रारम्भ पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मस्थली धानक्या गाँव (जयपुर) से 2अक्टूबर, 2014 को किया गया है।
इसके तहत स्वच्छता सप्ताह 25 सितंबर से 1 अक्टूबर, 2014 के दौरान आयोजित किया गया।
भाँबरी गाँव (पाली) के शत प्रतिशत घरों में शौचालय निर्माण होने के उपरान्त 'निर्मल भारत अभियान' के तहत इस गाँव को पुरस्कृत किया गया है।
इस योजना के तहत व्यक्तिगत, पारिवारिक शौचालय इकाइयों के निर्माण एवं उपयोग करने पर प्रोत्साहन
राशि के रूप में 12,000 (केन्द्र 75 % यानि 9,000रू. एवं राज्य 25 % यानि 3,000रू.) दिये जाने का प्रावधान है।
इस मिशन का उद्देश्य महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती 2 अक्टूबर,2019 तक भारत को खुले में शौच से मुक्त करना था।

राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना कब शुरू की गई ? - 2014 में

अपडेट एवं सुधार के लिए 
www.devedunotes.com देखते रहे।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments