आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें PDF के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़े।

राजस्थान में त्यौहार। मुस्लिम त्यौहार। सिक्खों के त्यौहार। जैन त्यौहार

Festivals in Rajasthan



राजस्थान के त्यौहार




मुस्लिम त्यौहार

मुस्लिम त्यौहार हिजरी कैलेंडर के अनुसार मनाये जाते हैं। जो कि चंद्रमा पर आधारित होता है। 
हिजरी कैलेंडर में अधिक मास नहीं होता है।

हिजरी कैलेंडर के महीनों के नाम

 1. मोहर्रम

 2. सफर

 3. रबी उल अव्वल

 4. रबी-उस्-सानी

 5. जमात उल अव्वल

 6. जमात उस् सानी

 7. रज्जब

 8. शाबान 

 9. रमजान 

 10. शव्वाल 

11.जिल्काद्

12. जिल्हिज्



Telegram Join 👉 Click Here

 1. मोहर्रम महीना

 👉10 तारीख

इस दिन हुसैन की याद में ताजिये निकाले जाते हैं।

👉 27 तारीख
सैयद फखरुद्दीन का उर्स (मेला) - गलियाकोट 
गलियाकोट "दाऊदी बोहरा संप्रदाय" का मुख्य स्थान है।

 Telegram Join 👉 Click Here

2. सफर महीना

👉 20 तारीख - 

चेहल्लम ( हुसेन की मृत्यु के 40 दिन बाद )

3. रबी उल अव्वल

👉12 तारीख -

ईद मिलादुल नबी ( पैगंबर मोहम्मद साहब का जन्म )
बारावफात (मोहम्मद साहब की मृत्यु )

4. रबी उस् सानी - कोई त्यौहार नहीं।

5. जमात उल अव्वल - कोई त्यौहार नहीं।

Telegram Join 👉 Click Here

 6. जमात उस् सानी

 👉 8 तारीख - ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का जन्म


ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का जन्म फारस के संजरी गांव में हुआ था।
ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती मोहम्मद गौरी के आक्रमण के समय भारत आए थे एवं इन्होंने अजमेर को अपना मुख्य केंद्र बनाया था।

 7. रज्जब महीना

👉1 तारीख - 6 तारीख  तक


ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का उर्स - अजमेर में
इस उर्स की शुरुआत भीलवाड़ा के गोरी परिवार द्वारा झंडा चढ़ा कर की जाती है।

 👉6 तारीख - कुल की रस्म

 👉 9 तारीख - बडे कुल की रस्म

 👉 27 तारीख - मेराज की रात
( पैगंबर मोहम्मद साहब की खुदा से मुलाकात हुई )

 8. शाबान महीना 👉 14 तारीख - शबेरात

 

9. रमजान महीना

सबसे पवित्र माह है।

मुसलमान इस महीने में रोजे रखते हैं।

👉 27 तारीख - शबे कद्र
( इस दिन कुरान शरीफ धरती पर आई थी )

10. शव्वाल महीना

👉 1 तारीख - ईद उल फितर / मीठी ईद / सेवइयां की ईद 

यह भाईचारे का त्यौहार है। 


11. जिल्काद् महीना - कोई त्यौहार नहीं।


12. जिल्हिज् महीना

इस महीने में मुस्लिम हज यात्रा करते हैं।

👉 10 तारीख - 
  ईद-उल-जुहा / बकरा ईद
  कुर्बानी का त्योहार 


सिक्खों के त्यौहार


👉 गुरु नानक जयंती - कार्तिक माह की पूर्णिमा को।

 ये सिक्खों के प्रथम गुरु थे।

👉 गुरु गोविंद सिंह जयंती - पौष शुक्ल सप्तमी को।
* ये सिक्खों के दसवें गुरु थे।

👉 लोहडी - 13 जनवरी

👉 वैशाखी का त्योहार - 13 अप्रैल 
* पंजाब का नववर्ष।
* गुरु गोविंद सिंह जी ने 13 अप्रैल 1699 ई. को आनंदपुर में खालसा पंथ की स्थापना की थी।
* 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला हत्याकांड वैशाखी के दिन ही हुआ था।


जैन त्यौहार

👉 ऋषभ जयंती - चैत्र कृष्ण नवमी को।

 जैनों के प्रथम गुरु - ऋषभदेव जी

👉 महावीर जयंती - चैत्र शुक्ल त्रयोदशी
 जैनों के अंतिम गुरु।

👉 रोट तीज - भाद्रपद शुक्ल तृतीया

👉 सुगंध दशमी - भाद्रपद शुक्ल दशमी
 धूप दशमी भी कहते हैं।

👉 दसलक्षण पर्व
* 10 दिन का जैन व्रत
* भाद्रपद के  दसलक्षण पर्व को पर्युषण ( महापर्व ) कहा जाता है।

* चैत्र, भाद्रपद और माघ महीने में शुक्ल पंचमी से चतुर्दशी तक यह पर्व मनाया जाता है।

नोट -  चैत्र तथा माघ महीने के दसलक्षण पर्व बड़े जैन गुरु करते हैं। सामान्यतः जैन लोग भाद्रपद महीने के ही दसलक्षण पर्व करते हैं।

दिगंबर जैन का पर्युषण - 
* भाद्रपद शुक्ल पंचमी से चतुर्दशी तक
* अश्विन कृष्ण एकम - पड़वा ढोक ( क्षमा याचना पर्व )

श्वेतांबर जैन का पर्यूषण -
* भाद्रपद कृष्ण द्वादशी से भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी तक (8 दिन)
* भाद्रपद शुक्ल पंचमी - संवत्सरी पर्व (क्षमा याचना पर्व) 

 


सिंधियों के त्यौहार

👉 चेटीचंड या झूलेलाल जयंती - 

* चैत्र शुक्ल एकम
* झूलेलाल भगवान वरुण के अवतार है। इन्होंने सिंध के नवाब मृगशाह को मारा था।

👉 असु चंड - आश्विन शुक्ल एकम
झूलेलाल जी का निर्माण दिवस।

👉 चालीहा महोत्सव 
* 16 जुलाई - 24 अगस्त तक 40 दिन का व्रत।

👉 थदडी सातम - 
भाद्रपद कृष्ण सप्तमी।
थदडी का अर्थ - ठंडा

 


ईसाईयों के त्यौहार

👉 क्रिसमस - 

* ईसा मसीह का जन्म दिवस।
* 25 दिसंबर

👉 नव वर्ष - 1 जनवरी
* इस दिन ईसा मसीह को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी  (4 वर्ष की उम्र में)
* 1583 ई. में पोप ग्रेगरी ने ग्रेगोरियन कैलेंडर की शुरुआत की।  (यह सूर्य आधारित कैलेंडर है)

👉 गुड फ्राइडे
* ईसा मसीह को 33 वर्ष की उम्र में सूली पर लटकाया गया था।
* ईस्टर से ठीक पहला शुक्रवार गुड फ्राइडे होता है।
* ईसाइयों के लिए गुड फ्राइडे शोक / दुख का दिन है।

👉 ईस्टर
* 2 मार्च - 22 अप्रैल के मध्य जो पहली पूर्णिमा आती है। उसके बाद आने वाला रविवार ईस्टर कहलाता है।
मान्यता है कि ईसा मसीह (जीसस) मरने के 2 दिन बाद स्वर्ग लोक से वापस धरती पर आए थे और वह दिन रविवार का था।

👉 असेंशन डे 
* ईस्टर के 40 दिन बाद
* मान्यता है कि जीसस धरती से स्वर्ग लोक इसी दिन गए थे।


सुशासन दिवस - 25 दिवस
प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के अवसर पर सुशासन दिवस मनाया जाता है।
इस दिवस को मनाने की शुरुआत 2014 से की गई।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments