आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें यूट्यूब, टेलीग्राम, प्ले स्टोर पर DevEduNotes सर्च करें।

पारिस्थितिकी - परिचय

 
Ecology introduction


पारिस्थितिकी - परिचय

Ecology - introduction.

पारिस्थितिकी की परिभाषा
जीव का जीव के साथ तथा जीव का पर्यावरण के साथ अंतर्संबंधों के अध्ययन को पारिस्थितिकी कहते हैं।
पर्यावरणीय कारणों का प्रभाव जीवों पर पड़ता है तथा जीवों की क्रियाओं का प्रभाव पर्यावरण पर पड़ता है। पारिस्थितिकी में इन्हीं प्रभावों का अध्ययन किया जाता है।

इकोलॉजी शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग अर्नस्ट हेकेल ने 1869 में Oekologie के रूप में किया।
Oekologie दो ग्रीक शब्दों Oikas और logos से मिलकर बना है। 
• Oikas - घर              • Logos - अध्ययन

सर्वप्रथम अर्नस्ट हेकेल ने ही इकोलॉजी को परिभाषित किया कि यह जीव तथा बाहरी कारकों के मध्य पारस्परिक संबंधों का अध्ययन है।

अर्नस्ट हेकेल को पारिस्थितिकी का जनक कहा जाता है।

नोट:-  इकोसिस्टम शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग करने वाले में रीटर और हेकेल को लेकर Confusion है। हमने हेकेल को लिखा है।

भारत में पारिस्थितिकी के अध्ययन को प्रारंभ करने का श्रेय प्रो रामदेव मिश्रा को दिया जाता है।
भारतीय पारिस्थितिकी का जनक - रामदेव मिश्रा
इन्हीं के प्रयासों से भारत सरकार ने नेशनल कमेटी फॉर एनवायरमेंटल प्लानिंग एंड कोऑर्डिनेशन (1972) की स्थापना की।
बाद में पर्यावरण तथा वन मंत्रालय की स्थापना 1984 में की गई।

पादप पारिस्थितिकी (Plant Ecology) का जनक - वार्मिंग (डेनमार्क)

आधुनिक पारिस्थितिकी (Modern Ecology) का जनक - ओडम


पारिस्थितिकी के संगठन स्तर

Ecology structure


नोट:- संगठन स्तर में आगे बढ़ने पर आकार और जटिलता बढती है।

जीव (Individual)
प्रकृति में जो भी वस्तु जीवित है, उसे जीव कहते हैं, लेकिन विज्ञान की परिभाषा में जो वस्तु श्वसन कर सकती है, उसे जीव कहते हैं।
इसलिए समस्त जंतु, वनस्पति, सूक्ष्मजीवों को जीव के अंतर्गत शामिल किया जाता है।
जैसे - शेर, पादप, कवक, जीवाणु

पारिस्थितिकी अध्ययन की सबसे छोटी और आधारीय इकाई जीव है।
जीव छोटा, बड़ा, एककोशिकीय या बहुकोशिकीय हो सकता है। इसका एक निश्चित जीवन चक्र होता है।

प्रजाति (Species)
जीवों का वह समूह जिसकी संरचना, व्यवहार तथा अनुवांशिक बनावट समान हो और परस्पर प्रजनन द्वारा अपने जैसी संतान उत्पन्न करने में सक्षम हो प्रजाति कहलाती है।

अथवा सामान्य शब्दों में - एक जैसे जीवों का समूह जिनमें जनन क्षमता होती है, प्रजाति कहलाती है।

किन्ही भी दो जीवों को एक ही जाति का तब कह सकते है, जब दोनों जीव निम्नलिखित 2 शर्ते पूरी करें -
1. दोनों जीव सेक्सुअल कांटेक्ट करके संतान उत्पन्न कर सकें।
2. दोनों जीव आनुवांशिक रूप से समान हो। (गुणसूत्र समान)

समष्टि (Population)
किसी निश्चित क्षेत्र में एक ही प्रजाति के जीवों की कुल संख्या समष्टि कहलाती है।
जैसे - किसी अभ्यारण में केवल शेरों का समूह, तालाब में कमल के पौधे।

किसी भी जीव के जीवित रहने के लिए वातावरण होना आवश्यक है। वातावरण के दो घटक होते हैं -
1. जैविक घटक
2. अजैविक घटक

पारिस्थितिकी तंत्र के भी दो घटक होते हैं -
1. जैविक घटक - जंतु, वनस्पति, सूक्ष्मजीव
2. अजैविक घटक - वायु, जल, तापमान, वर्षा, मृदा

समुदाय (Community)
किसी निश्चित क्षेत्र में जीवों का ऐसा समूह जिसमें अनेक जाति के जीव हो, उसे समुदाय कहते है।
जैसे - किसी अभ्यारण के सभी जीवों का समूह।

पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem)
यहां ध्यान देने योग्य बात है, कि समुदाय को ही पारिस्थितिकी तंत्र का जैविक घटक कहते है। अतः समुदाय में अजैविक घटक मिला दिया जाए तो पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण हो जाता है।
• पारिस्थितिकी तंत्र छोटे व बड़े तथा कृत्रिम प्राकृतिक दोनों प्रकार के होते हैं।
• इकोसिस्टम शब्द ए जी टॉन्सले ने दिया।

प्रश्न.जलजीवशाला (Aquarium) कौनसे पारिस्थितिकी तंत्र का उदाहरण है ? - कृत्रिम

बायोम/जीवोम (Biome)
ऐसे पारिस्थितिकी तंत्र जो बड़े होते हैं तथा उनकी एक विशेष जलवायु होती है, उसे बायोम या जीवोम कहते है।
बायोम दो प्रकार का होता है - 
1. स्थलीय - मरुस्थल, घास के मैदान, जंगल,.....
2. जलीय बायोम - झीलें, तालाब, दलदली क्षेत्र, नदियां, ज्वार नदमुख (एस्टुअरी)

जैवमंडल (Biosphere)
सभी जीवोम मिलकर जैवमंडल बनाते हैं। अर्थात पृथ्वी का वह समस्त भाग जहां जीवन विद्यमान है, उसे जैवमंडल कहते है।
• हमारी पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है, जिस पर जीवन विद्यमान है, इसलिए जैवमंडल केवल पृथ्वी पर ही विद्यमान है।
• पृथ्वी की ठोस सतह को स्थलमंडल, जलीय भाग को जलमंडल तथा पृथ्वी का ऊपर वाला भाग जहां गैसें पाई जाती है, उसे वायुमंडल कहते है।


पारिस्थितिकी की शाखाएं

1. स्वपारिस्थितिकी (Autoecology)
2. समुदाय पारिस्थितिकी (Synecology)

1. स्वपारिस्थितिकी (Autoecology)
किसी एक प्रजाति या प्रजाति विशेष के एक सदस्य का उसके पर्यावरण के साथ संबंधों का अध्ययन स्वपारिस्थितिकी कहलाता है।

2. समुदाय पारिस्थितिकी (Synecology)
किसी निश्चित क्षेत्र में सभी प्रजातियों का पर्यावरण के साथ संबंधों का अध्ययन समुदाय पारिस्थितिकी कहलाता है।

Local Population / Demes
किसी जीव की समष्टि जो किसी निश्चित स्थान पर रहती है।
जैसे - किसी अभ्यारण में केवल खरगोशों की संख्या। 

Meta Population 
दो स्थानीय समष्टि जो एकांकी सदस्यों (Dispersing individuals) द्वारा परस्पर संबंधित होती है। 
जैसे - किसी जंगल और जंगल के बाहर घास के मैदान में खरगोशों की संख्या।

Sister Population
भिन्न-भिन्न स्थानों पर मिलने वाले एक ही जाति के जीवों का समूह आपस में सिस्टर पॉपुलेशन कहलाता है।
जैसे - अलवर, जयपुर, जोधपुर, बाड़मेर के मेंढक।

समष्टि वृद्धि (Population Growth)
समष्टि घनत्व या समष्टि का आकार चार कारकों पर निर्भर करता है -
1. जन्म दर (Natality) - दी गई समय अवधि में समष्टि में होने वाले नए जन्म की संख्या। 
उदाहरण - किसी तालाब में 2020 में कछुओं की संख्या 50 थी, जो अगले एक वर्ष में 10 बढ़कर 60 हो गई।
2. मृत्यु दर (Mortality) - दी गई समय अवधि में समष्टि में होने वाली मौतों की संख्या।
3. आप्रवासन (Immigration) - Individual come into habitat.
उदाहरण - तालाब में दूसरी जगह से आने वाले कछुओं की संख्या।
4. उत्प्रवासन (Emigration) - Individual leaves the habitat.
उदाहरण - कुछ कछुओं का तालाब से चले जाना।

नोट :- जन्मदर और आप्रवासन समष्टि घनत्व को बढ़ाते हैं और मृत्यु दर तथा उत्प्रवासन इसे घटाते हैं।

अगला टॉपिक पढ़ें 👉 प्रजातियों के प्रकार

SAVE WATER

Share with friends

Post a Comment

3 Comments

  1. The only ras dedicated app which materiy are really useful. All other apps are full of non-needed information. To the point and small parts of every topic make it useful. Thanks gor this help

    ReplyDelete