आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

क्वॉड क्या है ? ।। IR Notes for RAS

 

Quadrilateral Security Dialogue

क्वॉड क्या है ?

द क्वॉड्रिलैटरल सिक्‍यॉरिटी डायलॉग (Quad)
Quadrilateral Security Dialogue (QSD) also known as the Quad.

चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता (क्वाड) संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच अनौपचारिक रणनीतिक मंच है।

इस समूह की स्थापना का विचार सबसे पहले जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 2007 में रखा था।
• 2011 में इसकी पहली औपचारिक शुरुआत हुई।
• अमेरिका, जापान और भारत इसके संस्थापक सदस्य थे।
वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया को मिलाकर इसके 4 सदस्य है।

• उद्देश्य - एशिया प्रशांत क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के पालन को सुनिश्चित करना।

• इस समूह के द्वारा एक साझा नौसैनिक अभ्यास किया जाता है, जिसे मालाबार नौसैनिक अभ्यास कहा जाता है।
अभी तक इस अभ्यास में अमेरिका, जापान और भारत शामिल होते हैं। जल्द ही ऑस्ट्रेलिया के भी इसमें शामिल होने की उम्मीद है।

• दक्षिण चीन सागर में चीन की विस्तारवादी गतिविधियों के चलते यह समूह महत्वपूर्ण हो गया है।
• क्वॉड समूह में वियतनाम, दक्षिण कोरिया और न्यूजीलैंड को भी शामिल करने का प्रस्ताव है।
• इस समूह में भारत की बढ़ती भागीदारी एशिया के शक्ति संतुलन को चीन के विपरीत कर सकने में सक्षम है।



क्वाड विदेश मंत्रियों की बैठक

6 अक्टूबर 2020 को जापान के टोक्यो में क्वाड देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक आयोजित की गई। सभी चार क्वाड देशों संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, भारत और ऑस्ट्रेलिया ने कोरोनोवायरस महामारी के दौरान “Free and Open Indo-Pacific” (FOIP) पर विचार विमर्श किया। 
• यह क्वाड विदेश मंत्रियों की दूसरी बैठक है। पहली बैठक का आयोजन 2019 में किया गया था।
• क्वाड विदेश मंत्रियों की बैठक में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ, ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मारिज पायने और जापानी विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोतेगी ने हिस्सा लिया। 
• बैठक का मुख्य उद्देश्य हिंद-प्रशांत समुद्री क्षेत्र में दुनिया के सभी देशों के लिए समान अवसर सुनिश्चित करना।
सप्लाई चेन में चीन के वर्चस्व के विकल्प के रूप में नई वैश्विक सप्लाई चेन स्थापित करना।


हिंद-प्रशांत महासागर पहल

7 अक्टूबर को भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और जापान के विदेश मंत्री तोशोमित्सु मोतेगी के बीच टोक्यो में बैठक हुई।
इसके बाद जापान हिंद-प्रशांत महासागर की पहल (इंडो-पैसिफिक ओसियन इनीशिएटिव - IPOI) में प्रमुख साझेदार बनने के लिए सहमत हुआ है।
• हिंद-प्रशांत महासागर पहल, भारत समर्थित एक ढांचा है, जिसका लक्ष्य हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एक सुरक्षित समुद्री अधिकार क्षेत्र बनाने की सार्थक कोशिश करना है।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments