आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

भारत-फ्रांस संबंध ।। IR Notes for RAS

भारत-फ्रांस संबंध

भारत-फ्रांस संबंध 

ऐतिहासिक रूप से भारत व फ्रांस के संबंध अच्छे रहे हैं।
गोवा के मुद्दे पर फ्रांस ने पुर्तगाल का साथ नहीं दिया
1974 ई. में भारत के परमाणु परीक्षणों का समर्थन किया तथा नाभिकीय संयंत्र के लिए ईंधन की आपूर्ति की।

वर्तमान में मुख्यतः चार सहयोग के क्षेत्र हैं -


1. भारत-फ्रांस के बीच सामरिक सहयोग

1998 में भारत द्वारा पहला सामरिक साझेदारी का समझौता फ्रांस के साथ किया गया।
सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का समर्थन फ्रांस करता है।
अगस्त 2019 में जी- 7 शिखर सम्मेलन फ्रांस के बियारित्ज में आयोजित किया जिसमें भारत को अतिथि के रुप में आमंत्रित किया गया।
हिंद महासागर में भारत के प्रभुत्व को फ्रांस स्वीकार करता है।
हिंद महासागर में फ्रांस के नौसैनिक अड्डो का प्रयोग भारत द्वारा किया जा सकता है। 
जैसे - रीयूनियन द्वीप, जिबूती , आबू धाबी

फ्रांस के द्वारा मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया गया।


2. भारत-फ्रांस के बीच रक्षा सहयोग

भारत और फ्रांस के बीच युद्ध अभ्यासों का आयोजन किया जाता है।
थल सेना - शक्ति
नौसेना - वरुण
वायुसेना - गरुड़

रफाल

यह दो इंजनों वाला एक मध्यम बहुउद्देश्यीय लड़ाकू विमान है। (Medium multirole combat aircraft.) है।

• भारत को 29 जुलाई 2020 को पांच राफेल फाइटर जेट की पहली खेप मिली थी।

• राफेल का निर्माण फ्रांस की दसौ एविएशन (Dassault aviation Pvt.Ltd.) कंपनी ने किया है।

• राफेल समझौता एक गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट डील है, जो 2016 में की गई।

• कुल 36 विमान तैयार अवस्था (Ready to fly) में खरीदे जा रहे हैं।
कुल मूल्य - 59,000 करोड़ रुपए

इस डील में ऑफसेट क्लॉज का प्रावधान किया गया है।


ऑफसेट क्लॉज

इसका प्रावधान रक्षा खरीद प्रक्रिया 2013 और 2016 में किया गया।
इसके तहत विक्रेता पर एक शर्त रखी जाती है, कि वह कुल मूल्य के 30 से 50% तक की कीमत के रक्षा उपकरण भारत के रक्षा बाजार से खरीदेगा।
• इससे घरेलू रक्षा बाजार को प्रोत्साहन मिलता है।
• राफेल डील में ऑफसेट 50% रखा गया है।
• कुल 72 कंपनियों से यह खरीद की जा रही है, जिसमें सर्वाधिक 9,000 करोड़ का ऑफसेट डीआरडीओ को दिया गया।

नोट - वर्तमान में फ्रांस के अलावा 3 देशों भारत (36), मिस्त्र (24) और कतर (24) के पास ही राफेल है।


भारत की कलवरी श्रेणी पनडुब्बियों का डिजाइन फ्रांस की स्कॉर्पीन पनडुब्बी पर आधारित है। इस श्रेणी की कुल छह पनडुब्बियों का निर्माण किया जा रहा है। जिसमें चार पनडुब्बियों का निर्माण किया जा चुका है।
1. आईएनएस कलवरी
2.आईएनएस करंज
3. आईएनएस खांडेरी
4.आईएनएस वेला


3. भारत-फ्रांस के बीच ऊर्जा सहयोग


2008 में भारत और फ्रांस के बीच असैन्य परमाणु समझौता किया गया।
फ्रांस की ईडीएफ कंपनी महाराष्ट्र के जैतापुर में 10,000 मेगावाट क्षमता का नाभिकीय संयंत्र लगाएगी।
भारत व फ्रांस द्वारा संयुक्त रूप से अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की शुरुआत की गई है।
शुरुआत - 30 नवंबर 2015
मुख्यालय - गुरुग्राम( भारत)
सदस्य - 122

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन  का कार्य

कर्क रेखा व मकर रेखा के बीच स्थित देशों में सौर ऊर्जा के लिए सहयोग स्थापित करना ,सौर ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश आकर्षित करना व सौर ऊर्जा परियोजनाओं को सस्ता वित्त उपलब्ध करवाना।

इस पहल के लिए भारत के प्रधानमंत्री तथा फ्रांस के राष्ट्रपति को यूनाइटेड नेशंस एनवायरमेंट प्रोग्राम (UNEP)  के द्वारा चैंपियंस ऑफ अर्थ अवॉर्ड दिया गया।
साथ ही यह पुरस्कार कोच्चि हवाई अड्डे को भी दिया गया।


4. भारत-फ्रांस के बीच अंतरिक्ष सहयोग


भारत की इसरो व फ्रांस की सिनेश (CNES) के बीच सहयोग स्थापित किया गया है।
भारत के संचार उपग्रह प्रक्षेपित करने के लिए फ्रांस के एरियन रॉकेट का प्रयोग किया जाता था।
भारत व फ्रांस द्वारा संयुक्त उपग्रह प्रक्षेपित किए गए हैं। जैसे-  Megha, Tropicues and SARAL.

भारत के गगनयान प्रक्षेपण में भी फ्रांस द्वारा सहयोग किया जाएगा।

अन्य सहयोग

फ्रांस द्वारा भारत में 3 स्मार्ट सिटी का निर्माण किया जाएगा। 
1.पुडुचेरी  2.चंडीगढ़  3.नागपुर

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments