आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

अध्याय- 22 नीतिशास्त्रीय विचारकों के प्रसिद्ध कथन

नीतिशास्त्र, Ethics for UPSC



नीतिशास्त्रीय विचारकों के प्रसिद्ध कथन

सुकरात के प्रसिद्ध कथन:-

1. मैं किसी को कुछ भी नहीं पढ़ा सकता मैं केवल उन्हें सोचने पर मजबूर कर सकता हूं।

2. आश्चर्य ही बुद्धिमानी की शुरुआत है।

3. अपने आपको जानने के लिए अपने बारे में सोचें।

4. प्रश्न को अच्छे से समझ लेना ही आधा उत्तर है।

5. सिर्फ जीना मायने नहीं रखता सच्चाई से जीना मायने रखता है।

6. केवल एक अच्छाई है ज्ञान और केवल एक बुराई है अज्ञान।

प्लेटो के  प्रसिद्ध कथन:-

1. स्वयं पर विजय प्राप्त कर लेना सबसे श्रेष्ठ और महानतम विजय होती है।

2. राजनीति में भाग न लेने का दंड यह है कि आपको अपने से निम्न लोगों द्वारा शासित होना पड़ता है।

3.  बिना न्याय के ज्ञान को बुद्धिमानी नहीं चालाकी कहा जाना चाहिए।

4. अगर इंसान शिक्षा की उपेक्षा करता है तो वह लंगड़ाते हुए अपने अंत की तरफ बढ़ता है।

5. जो अच्छा सेवक नहीं है वह अच्छा मालिक कभी नहीं बन सकता।

6. मौत सबसे बुरी चीज नहीं है जो इंसान के साथ हो सकती है।

 अरस्तू के प्रसिद्ध कथन:-

1. शिक्षित और अशिक्षित में इतना ही फर्क है जितना कि जिंदगी और मौत में।

2 वह जो एकांत में खुश रहता है या तो एक जानवर होता है या फिर भगवान।

 3. एक दोस्त आपकी दूसरे आत्मा है।

4. धैर्य कड़वा है पर इसका फल मीठा होता है।

 5. कोई भी उस व्यक्ति से प्रेम नहीं करता जिससे वह डरता है।

6. मनुष्य स्वभाव से एक राजनीतिक जानवर है।

 स्टॉइक्स विचारकों के प्रसिद्ध कथन:-

 1. अतीत को देखो उसके बदलते हुए साम्राज्यों के साथ जो ऊंचे उठे और गिर गए और तुम भविष्य को भी देख सकते हो।

2. संपन्नता कीमती साजों सामान इकट्ठा करना नहीं है बल्कि अपनी आवश्यकताओं को सीमित रखना है।

3. हमें हमेशा अपने आप से पूछते रहना चाहिए क्या यह मेरे नियंत्रण में है या नहीं।

4. यदि एक व्यक्ति को मालूम नहीं है कि उसे किस बंदरगाह की ओर जाना है तो हवा की हर दिशा उसे अपने विरुद्ध ही प्रतीत होगी।

 5. सबसे अच्छा प्रतिकार है अपने दुश्मन की तरह नहीं बनना।

इमैन्युअल कांट  के  प्रसिद्ध कथन:-

 1. आप मुझे केवल बेहतर जानते हैं जैसे कि आप मुझे देखते हैं वैसा नहीं जैसा मैं वास्तव में हूं।

2. एक आदमी जानवरों के साथ कैसा बर्ताव करता है उसी से उसके दिल का पता किया जा सकता है।

3. बेशक हमारी सारी जानकारी अनुभव से ही शुरू होती है।

4. अपने जीवन को ऐसे जियो कि तुम्हारा हर कार्य एक सार्वभौमिक नियम बन जाए।

5. यह भगवान की इच्छा नहीं है कि वह हमें खुश होना चाहिए बल्कि यह है कि हमें खुद को खुश रखना चाहिए।

 हीगल के  प्रसिद्ध कथन:-

 1. दुनिया का कोई भी काम धैर्य के बगैर पूरा नहीं हुआ है।

2. इतिहास और अनुभव हमें सिखाता है कि लोग और सरकार कभी भी इतिहास  से कोई सबक नहीं लेते हैं ना ही इसके आधार पर कोई सुधार करते हैं।

3. जिस व्यक्ति में गलती करने का साहस है वही सफल है।

4. हर चीज को तर्क के नजरिए से देखना चाहिए वह जो भी तार्किक होगा वह सत्य होगा कल्पना नहीं।

 5. शिक्षा वह कला है जो व्यक्ति का परिचय सही गलत से करवाती है उसे आदर्श राह दिखाती है।

सार्त्र के  प्रसिद्ध कथन:-

1. जब अमीर लोग एक दूसरे से युद्ध लड़ते हैं तो वह गरीब लोग ही होते हैं जिन्हें मरना पड़ता है।

 2. जीवन निराशा के दूसरी तरफ शुरू होता है।

3. शब्द भरी हुई बंदूक है।

 4. जीने के तरीके के अलावा सब कुछ खोज लिया गया है।

5. किसी के घुटनों पर जीने से अच्छा है खुद के पैरों पर मर जाना।

कन्फ्यूशियस के  प्रसिद्ध कथन:-

 1. हर चीज में खूबसूरती होती है लेकिन हर कोई उसे देख नहीं पाता।

2. जो आप खुद नहीं पसंद करते हैं उसे दूसरों पर मत थोपिए।

3. महानता कभी ना गिरने में नहीं है बल्कि हर बार गिरकर उठ जाने में है।

4. वास्तविक शिक्षा वही है जो किसी के अज्ञान की सीमा को जान सके।

5. खामोशी इंसान की सच्ची दोस्त होती है जो कभी उसके रहस्य उजागर नहीं करती।

 महात्मा गांधी के प्रसिद्ध कथन:-

1. खुद वो बदलाव बनिए जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं।

2. आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता सागर के समान है। यदि सागर की कुछ बूंदे गंदी है तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता।

3. खुद को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है खुद को दूसरों की सेवा में खो दो।

4. पहले वे आप पर ध्यान नहीं देंगे,  फिर वे आप पर हसेंगे,  फिर वे आप से लड़ेंगे और तब आप जीत जायेंगे।

5. जिस दिन से एक महिला रात में सड़कों पर स्वतंत्र रूप से चलने लगेगी उस दिन से हम कह सकते हैं कि भारत ने स्वतंत्रता हासिल कर ली है।

6. व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित प्राणी है वह जो सोचता है वही बन जाता है।

7. एक विनम्र तरीके से आप दुनिया को हिला सकते हैं।

8. आंख के बदले आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी।

9. शक्ति शारीरिक क्षमता से नहीं बल्कि एक अदम्य इच्छाशक्ति से आती है ।

10. थोड़ा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशों से बेहतर है।

11. विश्वास को हमेशा तर्क से तोलना चाहिए। जब विश्वास अंधा हो जाता है तो वह मर जाता है।

12. भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि आज आप क्या कर रहे हैं।

13. ख़ुशी तब मिलेगी जब आप जो कहते हैं जो सोचते हैं और जो करते हैं सामंजस्य में हो।

14. एक अच्छा इंसान हर सजीव का मित्र होता है।

15. मौन सबसे सशक्त भाषण है धीरे-धीरे दुनिया आपको सुनेगी।

16. पाप से घृणा करो पापी से प्रेम करो।

17. कमजोर कभी माफी नहीं मांगते क्षमा करना तो ताकतवर व्यक्ति की विशेषता है।

18.किसी देश की संस्कृति लोगों के दिलों और आत्मा में निवास करती है।

19. कुछ ऐसा जीवन जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो कुछ ऐसा सीखो जैसे कि तुम हमेशा जीने वाले हो।

20. हो सकता है कि आपका कभी ना जान सके कि काम का क्या परिणाम हुआ लेकिन यदि आप कुछ नहीं करेंगे तो कोई परिणाम नहीं होगा।

21. अपने ज्ञान पर जरूरत से अधिक यकीन करना मूर्खता है यह याद दिलाना ठीक होगा कि सबसे मजबूत कमजोर  हो सकता है और सबसे बुद्धिमान गलती कर सकता है।

22. अहिंसा  मानवता के लिए सबसे बड़ी ताकत है। यह आदमी द्वारा तैयार विनाश के ताकतवर हथियार से अधिक शक्तिशाली है।

स्वामी विवेकानंद के  प्रसिद्ध कथन:-

1. उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाए।

2. खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।

3. सत्य को हजार तरीकों से बताया जा सकता है फिर भी हर एक सत्य ही होगा।

4. दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो।

5. सामर्थ्य जीवन है और दुर्बलता मृत्यु।

6. विश्व एक विशाल व्यायामशाला है जहां हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं।

 रवींद्र नाथ टैगोर के  प्रसिद्ध कथन:-

1. सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाकू की तरह है  जिसमे सिर्फ ब्लेड है यह इसके प्रयोगकर्ता को ही घायल कर देता है।

2. फूल की पंखुड़ियों को तोड़ कर आप उसकी सुंदरता को इकट्ठा  नहीं करते हैं।

3. मौत प्रकाश को खत्म करना नहीं है यह सिर्फ भोर होने पर दीपक बुझाना है।

4. मित्रता की गहराई परिचय की लंबाई पर निर्भर नहीं करती।

5. आस्था वह पक्षी है जो भोर के अंधेरे में भी उजाले को महसूस करती है।

SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments