आपका स्वागत है, डार्क मोड में पढ़ने के लिए ऊपर क्लिक करें अपडेट के लिए टेलीग्राम चैनल DevEduNotes से जुड़ेें

ओपेक प्लस क्या है ? ।। बैरल क्या होता है ?



ओपेक प्लस क्या है ?

OPEC Plus = Organisation of Petroleum Exporting Countries Plus.

विश्व में तेल के प्रमुख आपूर्तिकर्ता देश है -   यूएसए, सऊदी अरब और रूस

वर्तमान में कोरोनावायरस महामारी के कारण तेल की आपूर्ति ज्यादा और मांग कम है। इसके मद्देनजर 12 अप्रैल 2020 को ओपेक प्लस की बैठक आयोजित की गई।
इस बैठक में ऑयल उत्पादन को प्रतिदिन 9.7 मिलियन बैरल से कम करने पर सहमति बनी। यह कमी 1 मई 2020 से की जाएगी।
1 बैरल = 159 लीटर

ओपेक
यह पेट्रोलियम निर्यातक देशों का एक समूह है, जो कि कच्चे तेल की कीमतों को नियंत्रित करता है। यह आपूर्ति को कम करके तेल की कीमतों को नियंत्रित करता हैं।
स्थापना - 1960          मुख्यालय - वियना (ऑस्ट्रिया)
सदस्य - 14 देश
1. ईरान       2. इराक    3. संयुक्त अरब अमीरात (यूएई)
4. सऊदी अरब          5. अंगोला     6. अल्जीरिया
7. लीबिया         8. कांगो               9. इक्वेटोरियल गिनी
10. गैबन          11. वेनेजुएला       12. इक्वाडोर
13. नाइजीरिया  14. कुवैत

नोट - 1 जनवरी 2019 को कतर ओपेक से बाहर हो गया।

ओपेक प्लस
इस संगठन में ओपेक देशों के अलावा रूस, कजाकिस्तान, अजरबैजान और रूस के प्रभाव वाले अन्य देशों को शामिल किया गया है।

नोट - ओपेक प्लस में यूएसए, कनाडा, मैक्सिको जैसे देश शामिल नहीं है।

1 मई से उत्पादन में की जाने वाली कमी पर्याप्त नहीं है, क्योंकि कोरोनावायरस महामारी और वैश्विक आर्थिक सुस्ती के कारण प्रतिदिन मांग में 30 से 35 मिलियन बैरल की कमी आई है।

10 जून 2020 को ओपेक प्लस की अगली बैठक आयोजित की जाएगी।

क्या होता है बैरल ?

बैरल धातु का बना एक ड्रम होता है। इस ड्रम में अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार 158.98 लीटर कच्चा तेल आता है। सारे सौदे बैरल को आधार मानकर किए जाते हैं। जब ऑयल रिफाइनरी में एक बैरल तेल को प्रोसेस किया जाता है तो उससे पेट्रोल, डीजल, जेट फ्यूल, प्रोपेन (गैस) और तारकोल व सल्फर जैसे पदार्थ मिलते हैं।
अमेरिका के मानकों के अनुसार एक बैरल तेल के प्रोसेस से लगभग 73 लीटर पेट्रोल, 36 लीटर डीजल,
20 लीटर जेट फ्यूल, छह लीटर प्रोपेन और 34 लीटर अन्य उत्पाद (तारकोल, सल्फर आदि) का उत्पादन होता है।


SAVE WATER

Post a Comment

0 Comments